Renuka Wildlife Sanctuary Himachal Pradesh

Renuka Wildlife Sanctuary Himachal Pradesh

5/5 - (1 vote)

Renuka Wildlife Sanctuary Himachal Pradesh : रेणुका वन्यजीव अभयारण्य हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में स्थित है, जिसका निकटतम शहर ददाहू है, जो रेणुका से लगभग 2 किलोमीटर दूर है। अभयारण्य सड़कों के अच्छी तरह से जुड़े नेटवर्क के माध्यम से आसानी से पहुंचा जा सकता है और कुल 402.80 हेक्टेयर क्षेत्र को कवर करता है। अभयारण्य में रेणुका रिजर्व वन शामिल है और इस क्षेत्र में कोई मान्यता प्राप्त अधिकार नहीं होने के कारण इसे “अभ्यारण्य” के रूप में नामित किया गया है। इसके अतिरिक्त, अभयारण्य की सीमा के बाहर निकटवर्ती 300 हेक्टेयर क्षेत्र को बफर बेल्ट के रूप में नामित किया गया है। इस अभयारण्य का नाम प्राचीन रेनुका झील के नाम पर रखा गया है, जिसे देवी रेनुका का अवतार माना जाता है।

यह क्षेत्र अपने धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व के लिए अत्यधिक माना जाता है। रेणुका में माँ और बेटे, रेणुकाजी और भगवान परशुराम को समर्पित मंदिर हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार देवी दुर्गा का अवतार रेणुकाजी ऋषि यमदागिनी की पत्नी थीं। भगवान विष्णु के छठे अवतार माने जाने वाले परशुराम दम्पति के सबसे छोटे पुत्र थे। दुःख की बात है कि अपने पिता की आज्ञा का पालन करते हुए, परशुराम को अपनी माँ का सिर काटना पड़ा। उसके जीवन को बहाल करने की गुहार में, उसने अपने पिता से विनती की, और ऋषि यमदागिनी ने उसका अनुरोध स्वीकार कर लिया।

रेणुकाजी अपनी असाधारण सुंदरता के लिए जानी जाती थीं और सम्राट सहस्त्रबाहु उनसे विवाह करना चाहते थे। घटनाओं के एक दुर्भाग्यपूर्ण मोड़ में, सहस्त्रबाहु ने रेणुकाजी से जबरन शादी करने के लिए ऋषि यमदागिनी और उनके चार बेटों को मार डाला, जबकि परशुराम दूर थे। दुःख से अभिभूत होकर, रेणुकाजी ने रामसरोवर नामक एक छोटे तालाब में छलांग लगा दी और गायब हो गईं। तब से, झील को रेणुकाजी झील के रूप में प्रतिष्ठित किया गया है।

अभयारण्य भारतीय वन्यजीव संस्थान (डब्ल्यूआईआई) द्वारा वर्गीकृत जैव-भौगोलिक क्षेत्र के अंतर्गत आता है। शुष्क मिश्रित पर्णपाती वन, यानी शुष्क साल वन के अंतर्गत आता है। यह क्षेत्र बदायूँ धार तक सीमित प्राकृतिक साल वन की उत्तरी सीमा का प्रतिनिधित्व करता है।

क्षेत्र के जंगल में नम अवसादों में एनोजीसस, ल्यूसिनिया, टर्मिनलिया, खैर, शीशम, कैरी, कॉर्डिया और विभिन्न पर्वतारोहियों की मिश्रित फसल शामिल है। क्षेत्र में पक्षियों सहित जीव-जंतुओं में लेपोपर्ड, सांबर, चित्तीदार हिरण, बार्किंग हिरण, सियार, खरगोश, जंगली बिल्ली, पाम सिवेट, साही, ब्लू जे, ब्लैक पार्ट्रिज, ड्रोंगो, हिल क्रो, स्कार्लेट मिनीवेट, बुलबुल, कॉमन कूट शामिल हैं। , और हरे कबूतर।

रेणुकाजी मिनी चिड़ियाघर हिमाचल प्रदेश का सबसे पुराना चिड़ियाघर है, जिसकी स्थापना 1957 में जंगलों से बचाए गए, भटके हुए और निर्जन जंगली जानवरों के साथ की गई थी। चिड़ियाघर में लाया गया पहला जानवर मोती नाम का नर चित्तीदार हिरण था। पिछले कुछ वर्षों में चिड़ियाघर का विस्तार हुआ, जिसमें सांभर, चिंकारा, हॉगडीर और ब्लैक बक जैसे विभिन्न जंगली जानवरों को रखा गया। जानवरों की बढ़ती संख्या को समायोजित करने के लिए, 1983 में एक खुला पार्क स्थापित किया गया था, और पिपली चिड़ियाघर से ब्लैक बक और नीलगाय जैसे अतिरिक्त जानवर लाए गए थे। मिथुन और शेर के एक जोड़े को भी चिड़ियाघर में लाया गया, जिससे इसकी विविधता बढ़ गई।

अभयारण्य क्षेत्र के पास रेणुका मंदिर में पूजा करने के अधिकार के अलावा कोई मान्यता प्राप्त अधिकार नहीं है। लोपिंग और चराई जैसी अवैध गतिविधियों से निपटने के लिए, कर्मचारियों को मजबूत किया गया है, और अनधिकृत प्रवेश को प्रतिबंधित करने के लिए अभयारण्य की परिधि को एक इंटर-लिंक्ड चेन बाड़ से घेर दिया गया है। वर्तमान में, लायन सफारी, चिड़ियाघर, एवियरी और अभयारण्य को शिमला वन्यजीव प्रभाग के प्रशासनिक नियंत्रण के तहत, रेणुकाजी वन्यजीव रेंज रेणुका के रूप में प्रबंधित किया जाता है।

झील के पास आवास के लिए पर्यटन विभाग द्वारा संचालित होटल ‘रेणुका’ एक उत्कृष्ट विकल्प है। इसके अतिरिक्त, ददाहू में रेणुका झील से लगभग 2 किलोमीटर दूर वन विभाग द्वारा एक निरीक्षण झोपड़ी और राज्य विद्युत बोर्ड द्वारा प्रबंधित एक विश्राम गृह उपलब्ध है।

अभयारण्य में वनस्पतियों और जीवों की एक समृद्ध विविधता है, जो इसे जैव विविधता के लिए एक आश्रय स्थल बनाता है। हरे -भरे जंगल पेड़ों की कई प्रजातियों का घर हैं, जिनमें ओक, पाइन, देवदार और रोडोडेंड्रोन शामिल हैं। ये पेड़ वन्यजीवों की एक विविध श्रेणी के लिए एक प्राकृतिक आवास प्रदान करते हैं, जैसे कि तेंदुए, सांबर हिरण, भौंकने वाले हिरण, जंगली सूअर, और लैंगर्स प्रजातियों का घर है, जिसमें रंगीन हिमालयन मोनल, तीतर और बारबेट्स शामिल हैं। अभयारण्य में सरीसृप, उभयचरों और तितलियों की कई प्रजातियां भी हैं, जो इसके पारिस्थितिक महत्व को जोड़ते हैं।

रेनुका वन्यजीव अभयारण्य संरक्षण और पारिस्थितिक संतुलन के संदर्भ में बहुत महत्व रखते हैं। यह एक महत्वपूर्ण वन्यजीव गलियारे के रूप में कार्य करता है, जो विभिन्न वन क्षेत्रों के बीच जानवरों के मुक्त आंदोलन की अनुमति देता है। अभयारण्य भी वनस्पतियों और जीवों के बीच नाजुक संतुलन को संरक्षित करके क्षेत्र के समग्र पारिस्थितिकी तंत्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है।

रेनुका वन्यजीव अभयारण्य के संरक्षण और सुरक्षा के लिए सरकार और स्थानीय समुदायों द्वारा प्रयास किए गए हैं। विभिन्न उपायों, जैसे कि सख्त अवैध शिकार विरोधी पहल और जागरूकता अभियान, को विविध वन्यजीवों और उनके आवासों की सुरक्षा के लिए लागू किया गया है। इसके अतिरिक्त, टिकाऊ पर्यटन प्रथाओं को पारिस्थितिकी तंत्र पर प्रभाव को कम करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

आगंतुक जानकारी

अभयारण्य पूरे वर्ष आगंतुकों का स्वागत करता है, उन्हें प्रकृति की सुंदरता में खुद को डुबोने का मौका देता है। अभयारण्य प्रवेश द्वार पर प्रवेश परमिट प्राप्त किए जा सकते हैं, और आगंतुकों के लिए एक नाममात्र शुल्क है। वन्यजीव देखने के अनुभव को बढ़ाने और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक स्थानीय गाइड को नियुक्त करना उचित है।

ट्रेकिंग और साहसिक गतिविधियाँ

रेनुका वन्यजीव अभयारण्य ट्रेकिंग और साहसिक गतिविधियों के लिए रोमांचक अवसर प्रदान करता है। अच्छी तरह से चिह्नित ट्रेल्स हैं जो आगंतुकों को अभयारण्य के सुंदर परिदृश्य का पता लगाने और उनके प्राकृतिक आवास में वन्यजीवों का निरीक्षण करने की अनुमति देते हैं। ट्रेकिंग के प्रति उत्साही लोग आस -पास की चोटियों के लिए रोमांचकारी हाइक को अपना सकते हैं, जो आसपास के पहाड़ों के मनोरम दृश्य प्रदान करते हैं।

आस -पास के आकर्षण

वन्यजीव अभयारण्य के अलावा, आस -पास के कई आकर्षण हैं जो खोज के लायक हैं। रेनुका झील, अपने शांत परिवेश और पौराणिक महत्व के साथ, पर्यटकों के लिए एक प्रमुख ड्रॉ है। अन्य आकर्षणों में प्राचीन रेनुका देवी मंदिर, मिनी चिड़ियाघर और लायन सफारी पार्क शामिल हैं, जो आगंतुकों के लिए अद्वितीय अनुभव प्रदान करते हैं।

यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा समय

रेनुका वन्यजीव अभयारण्य का दौरा करने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से जून के महीनों के दौरान होता है जब मौसम बाहरी गतिविधियों के लिए सुखद और अनुकूल होता है। सुरक्षा चिंताओं और वन्यजीव संरक्षण के प्रयासों के कारण जुलाई से सितंबर तक, मानसून के मौसम के दौरान अभयारण्य बंद रहता है।

कैसे पहुंचें

अभयारण्य सड़क से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, और नियमित बस सेवाएं पास के शहरों और शहरों से संचालित होती हैं।

आवास विकल्प

विभिन्न बजटों और वरीयताओं के अनुरूप रेनुका वन्यजीव अभयारण्य के पास कई आवास विकल्प उपलब्ध हैं। इनमें वन गेस्टहाउस, होटल, रिसॉर्ट्स और होमस्टे शामिल हैं। एक आरामदायक प्रवास सुनिश्चित करने के लिए, विशेष रूप से पीक टूरिस्ट सीजन के दौरान, पूर्व आरक्षण करने की सलाह दी जाती है।

वन्यजीव फोटोग्राफी

रेनुका वन्यजीव अभयारण्य वन्यजीव फोटोग्राफी के प्रति उत्साही लोगों के लिए पर्याप्त अवसर प्रदान करता है। उनके प्राकृतिक आवास में वनस्पतियों और जीवों की राजसी सुंदरता को पकड़ना एक पुरस्कृत अनुभव हो सकता है। हालांकि, जानवरों से सम्मानजनक दूरी बनाए रखना और किसी भी संकट से बचने के लिए नैतिक दिशानिर्देशों का पालन करना महत्वपूर्ण है।

सुरक्षा सावधानियां

अभयारण्य का दौरा करते समय, कुछ सुरक्षा सावधानियों का पालन करना महत्वपूर्ण है। बाहरी गतिविधियों के लिए आरामदायक कपड़े और उपयुक्त जूते पहनना उचित है। पर्याप्त पानी, सनस्क्रीन, कीट विकर्षक और एक प्रथम चिकित्सा किट ले जाने की सिफारिश की जाती है। इसके अतिरिक्त, एक सुरक्षित और सुखद यात्रा सुनिश्चित करने के लिए गाइड और अधिकारियों के निर्देशों का पालन करना आवश्यक है।

हिमाचल प्रदेश में रेनुका वन्यजीव अभयारण्य प्रकृति की गोद में एक मंत्रमुग्ध कर देने की पेशकश करते हैं। अपने विविध वनस्पतियों और जीवों के साथ, लुभावनी परिदृश्य, और रोमांच के अवसरों के साथ, यह प्रकृति प्रेमियों और वन्यजीव उत्साही लोगों के लिए एक गंतव्य गंतव्य है। अभयारण्य के संरक्षण प्रयासों और स्थायी पर्यटन प्रथाओं ने इसके दीर्घकालिक संरक्षण में योगदान दिया, जिससे भविष्य की पीढ़ियों को इसकी प्राकृतिक सुंदरता की सराहना करने की अनुमति मिलती है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या रेनुका वन्यजीव अभयारण्य पूरे वर्ष खुला है?

हां, अभयारण्य पूरे वर्ष आगंतुकों का स्वागत करता है, मानसून के मौसम के दौरान, जब यह सुरक्षा और संरक्षण कारणों के लिए बंद रहता है।

क्या अभयारण्य के भीतर कोई आवास विकल्प उपलब्ध हैं?

नहीं, अभयारण्य के भीतर कोई आवास विकल्प उपलब्ध नहीं हैं। हालांकि, पास के शहरों और शहरों में कई विकल्प उपलब्ध हैं।

क्या मैं अभयारण्य में वन्यजीवों के दर्शन के लिए एक स्थानीय गाइड रख सकता हूं?

हां, एक स्थानीय गाइड को किराए पर लेना उचित है जो अभयारण्य से परिचित है और आपके वन्यजीवों को देखने के अनुभव को बढ़ा सकता है।

क्या अभयारण्य में कोई साहसिक गतिविधियाँ उपलब्ध हैं?

हाँ,

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार