Jharkhand

Jharkhand

5/5 - (1 vote)

झारखंड पूर्वी भारत में स्थित एक राज्य है, जो अपने समृद्ध इतिहास, संस्कृति और प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। राज्य बाघों, हाथियों और पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों सहित विविध प्रकार की वनस्पतियों और जीवों का घर है। यहां झारखंड के बारे में एक पूरा ब्लॉग लेख है, जिसमें इसके इतिहास, संस्कृति, पर्यटक आकर्षण और बहुत कुछ शामिल है।

इतिहास:
झारखंड मूल रूप से बिहार का एक हिस्सा था, लेकिन इसे 15 नवंबर 2000 को एक अलग राज्य के रूप में बनाया गया था। इस क्षेत्र का 8 वीं शताब्दी से समृद्ध इतिहास है, जिसमें विभिन्न राजवंशों और साम्राज्यों के साक्ष्य हैं, जिन्होंने इस क्षेत्र पर शासन किया है। यह क्षेत्र मुगल साम्राज्य का केंद्र भी था और भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

संस्कृति:
झारखंड संस्कृतियों और परंपराओं की एक विविध श्रेणी का घर है। राज्य अपनी जनजातीय आबादी के लिए जाना जाता है, जो आबादी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। झारखंड की जनजातियों की अपनी अनूठी भाषा, रीति-रिवाज और रीति-रिवाज हैं जो आज भी प्रचलित हैं। राज्य अपने लोक संगीत, नृत्य और हस्तशिल्प के लिए भी जाना जाता है, जिसमें टेराकोटा मिट्टी के बर्तन, बांस शिल्प और हाथ से बुने हुए वस्त्र शामिल हैं।

पर्यटकों के आकर्षण:
झारखंड राष्ट्रीय उद्यानों, झरनों, मंदिरों और ऐतिहासिक स्थलों सहित कई पर्यटक आकर्षणों का घर है। झारखंड के कुछ शीर्ष पर्यटक आकर्षण इस प्रकार हैं:

बेतला राष्ट्रीय उद्यान: बेतला राष्ट्रीय उद्यान छोटा नागपुर पठार में स्थित है और बाघों, हाथियों और पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों का घर है।

दसम जलप्रपात: दसम जलप्रपात रांची के पास स्थित एक सुंदर जलप्रपात है और पिकनिक और प्रकृति की सैर के लिए एक लोकप्रिय स्थान है।

जगन्नाथ मंदिर: रांची का जगन्नाथ मंदिर भगवान जगन्नाथ को समर्पित एक लोकप्रिय हिंदू मंदिर है।

बैद्यनाथ मंदिर: देवघर का बैद्यनाथ मंदिर भारत के सबसे प्रसिद्ध शिव मंदिरों में से एक है।

हजारीबाग राष्ट्रीय उद्यान: हजारीबाग राष्ट्रीय उद्यान छोटा नागपुर पठार में स्थित है और बाघों, तेंदुओं और पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों का घर है।

पहाड़ी मंदिर: पहाड़ी मंदिर रांची में स्थित एक लोकप्रिय हिंदू मंदिर है और शहर के सुंदर दृश्य प्रस्तुत करता है।

हुंडरू जलप्रपात: हुंडरू जलप्रपात रांची के पास स्थित एक सुंदर जलप्रपात है और पिकनिक और प्रकृति की सैर के लिए एक लोकप्रिय स्थान है।

पारसनाथ पहाड़ी: पारसनाथ पहाड़ी झारखंड की सबसे ऊंची चोटी है और जैनियों के लिए एक लोकप्रिय तीर्थ स्थल है।

जोन्हा जलप्रपात: जोन्हा जलप्रपात रांची के पास स्थित एक सुंदर झरना है और पिकनिक और प्रकृति की सैर के लिए एक लोकप्रिय स्थान है।

रॉक गार्डन: रॉक गार्डन रांची में स्थित एक सुंदर उद्यान है और चट्टानों और पत्थरों से बनी मूर्तियों के लिए जाना जाता है।

अंत में, झारखंड एक समृद्ध इतिहास, संस्कृति और प्राकृतिक सुंदरता वाला एक सुंदर राज्य है। राज्य कई पर्यटक आकर्षणों का घर है जो इसकी विविध संस्कृति और प्राकृतिक विरासत की झलक पेश करते हैं। यदि आप पूर्वी भारत की यात्रा की योजना बना रहे हैं, तो झारखंड निश्चित रूप से आपके घूमने के स्थानों की सूची में होना चाहिए।

झारखंड पूर्वी भारत का एक राज्य है, जो अपने झरनों, जंगलों और आदिवासी संस्कृति के लिए जाना जाता है। पूर्वी छोटा नागपुर पठार क्षेत्र में स्थित, यह पहाड़ी इलाकों और कृषि मैदानों की विशेषता है। राज्य की राजधानी रांची में, जगन्नाथ मंदिर जटिल नक्काशी वाला एक प्रतिष्ठित हिंदू मंदिर है, जबकि 16वीं शताब्दी की उरावर्णी गुफाओं में चट्टानों को काटकर बनाई गई मूर्तियां हैं। तातीडीह और गौतमधारा के हॉट स्प्रिंग्स प्राकृतिक थर्मल स्नान प्रदान करते हैं।

Best Tourist Places in Jharkhand

झारखंड की राजधानी रांची झारखंड के शीर्ष पर्यटन स्थलों में से एक है। छोटानागपुर पठार में स्थित इस शहर में असाधारण प्राकृतिक सुंदरता, हरे-भरे जंगल और शानदार झरने हैं। रॉक गार्डन, दशम जलप्रपात, पहाड़ी मंदिर, कोनार बांध, बिरसा प्राणी उद्यान और जगन्नाथपुर मंदिर शहर के कुछ शीर्ष दर्शनीय स्थल हैं।

Betla National Park

बेतला राष्ट्रीय उद्यान, जिसे पलामू टाइगर रिजर्व के रूप में भी जाना जाता है, पलामू जिले, झारखंड, भारत के छोटा नागपुर पठार में स्थित है। यह भारत के सबसे प्रमुख बाघ अभयारण्यों में से एक है। राष्ट्रीय उद्यान का मुख्य क्षेत्र भारत के सबसे पुराने राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है और अगस्त 1947 में बेतला राष्ट्रीय उद्यान के नाम से स्थापित किया गया था। यह झारखंड के पलामू जिले में 250.3 किमी2 के क्षेत्र में फैला हुआ है। पार्क अपने विविध वन्य जीवन के लिए विख्यात है और देश में सबसे अधिक देखे जाने वाले पार्कों में से एक है।

बेतला राष्ट्रीय उद्यान बाघों और हाथियों की दोनों प्रजातियों के साथ बड़ी संख्या में पाए जाने वाले वनस्पतियों और जीवों से समृद्ध है। यह पार्क विभिन्न प्रकार के पक्षियों का घर है, जिनमें पेल-कैप्ड कबूतर की स्थानिक प्रजातियाँ, भारतीय गिद्ध और क्रेस्टेड सर्प ईगल, रोज़ी मिनिवेट्स, ब्लू-थ्रोटेड फ्लाईकैचर्स, ब्लैक हेडेड जेज़, पैराडाइज़ फ्लाईकैचर्स, बुलबुल सहित पक्षियों की अन्य स्थानिक प्रजातियाँ शामिल हैं। पार्क में बार्बेट और हॉर्नबिल भी देखे जा सकते हैं। पक्षियों के अलावा, विभिन्न प्रकार के स्तनधारियों को भी देखा जा सकता है, जिनमें भारतीय तेंदुए, हाथी, सांभर, जंगली सुअर, सियार, चौसिंघा, सुस्त भालू और बहुत कुछ शामिल हैं।

Deoghar

देवघर जिला भारत के झारखंड राज्य में स्थित एक जिला है। यह अपने ऐतिहासिक मंदिरों, एक लोकप्रिय तीर्थस्थल और कुछ महानतम आध्यात्मिक नेताओं के जन्मस्थान के लिए जाना जाता है। यह नवरात्रि, जन्माष्टमी और कार्तिक पूजा सहित कई मेलों और त्योहारों का भी घर है। मंदिरों के अलावा, देवघर पर्यटकों को कई तरह की गतिविधियाँ भी प्रदान करता है, जैसे भव्य सिद्ध बाबा मेला, विभिन्न गाँवों में आयोजित विभिन्न मेले और चंदवा में लोकप्रिय घुड़दौड़ कार्यक्रम। देवघर अपने मसालेदार ‘लिट्टी चोखा’, पुआ और अन्य पारंपरिक व्यंजनों के साथ एक खाद्य गंतव्य भी है।

Dalma Wildlife Sanctuary

दलमा वन्यजीव अभयारण्य भारत के झारखंड राज्य में स्थित एक वन्यजीव अभयारण्य है। यह जमशेदपुर से 20 किमी दूर स्थित है और दलमा हिल्स और पूर्वी सिंहभूम जिले के विलय में स्थित है। इसका क्षेत्रफल 193 किमी^2 है और इसे 1975 में एक अभयारण्य घोषित किया गया था। यह झारखंड का एकमात्र प्राकृतिक अभयारण्य है। अभयारण्य की वनस्पति ज्यादातर शुष्क पर्णपाती वन है, जिसमें साल, सागौन, बांस, लेंडी और अन्य पेड़ शामिल हैं। अभयारण्य के जीवों में बाघ, जंगली हाथी, तेंदुआ, सुस्त भालू, भौंकने वाला हिरण, चीतल, माउस हिरण, सांभर, नीलगाय और पहाड़ी मैना, मोर और बुलबुल जैसी विभिन्न एवियन प्रजातियां शामिल हैं।

Dassam Falls

दशम जलप्रपात भारत के झारखंड के रांची जिले में कांची नदी पर स्थित एक जलप्रपात है, जो सुवर्णरेखा नदी की एक सहायक नदी है। यह राज्य की राजधानी रांची से लगभग 40 किमी दूर स्थित है। इसे दशम घाघ के नाम से भी जाना जाता है, जिसका स्थानीय भाषा में अर्थ होता है झरना। यह एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है और इसमें 44 मीटर की ऊंचाई के साथ अद्वितीय सीढ़ी के आकार का झरना है। पानी सात अलग-अलग चरणों से बहता है और एक सुंदर दृश्य बनाता है।

Hazaribagh

हजारीबाग झारखंड के हजारीबाग जिले का एक शहर है। इसमें बड़कागांव, हजारीबाग, कटकमसांडी और बरही के क्षेत्र शामिल हैं। यह शहर हजारीबाग जिले की प्रशासनिक राजधानी के रूप में कार्य करता है और 645 मीटर (2116 फीट) की औसत ऊंचाई पर स्थित है। शहर की जनसंख्या लगभग 149,575 है। यह शहर अपने कोयला और अभ्रक खनन गतिविधियों के लिए जाना जाता है, क्योंकि ये दोनों खनिज संसाधन इसके आसपास बहुतायत में पाए जाते हैं।

यह शहर अपनी हिंदू आबादी के साथ-साथ कई आदिवासी समुदायों का भी घर है, जो शहर की आबादी का लगभग आधा हिस्सा हैं। पर्यटन के प्रमुख स्थानों में जैन मंदिर, नरवा हिल, टैगोर हिल, हजारीबाग राष्ट्रीय उद्यान, शिव मंदिर और कानून बांध शामिल हैं।

शहर सड़क और रेल द्वारा राज्य के अन्य हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और हजारीबाग टाउन रेलवे स्टेशन द्वारा परोसा जाता है, जो उत्तर पूर्वी रेलवे डिवीजन का एक हिस्सा है। निकटतम हवाई अड्डा रांची में है, जो 115 किमी (71.4 मील) की दूरी पर स्थित है।

Parasnath Hills

पारसनाथ पहाड़ियाँ भारत के झारखंड के गिरिडीह और धनबाद जिलों में पहाड़ियों की एक श्रृंखला है। वे राजमहल पहाड़ी प्रणाली का हिस्सा हैं, और दक्कन के पठार और गंगा के मैदान के बीच सीमा के रूप में काम करते हैं। पहाड़ियाँ झारखंड का सबसे ऊँचा स्थान हैं। सबसे ऊंची चोटी, पारसनाथ हिल्स, 1,350 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और इसे जैन समुदाय के सबसे पवित्र स्थानों में से एक माना जाता है। यह क्षेत्र बाबा बैद्यनाथ मंदिर और शिव मंदिर जैसे कई महत्वपूर्ण हिंदू मंदिरों का घर भी है। यह क्षेत्र अपनी हरी-भरी वनस्पतियों, प्राकृतिक सुंदरता और कई झरनों के लिए जाना जाता है। यह तेंदुए, बाघ और हाथी जैसे कई जंगली जानवरों का भी घर है। पहाड़ियों को एक महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र के रूप में भी सूचीबद्ध किया गया है।

Pretshila Hill

प्रेतशिला हिल भारत के झारखंड के पूर्वी-सिंहभूम जिले में स्थित है। यह समुद्र तल से 868 मीटर (2,851 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। पहाड़ी घने जंगल से घिरा है और जंगली सूअर, भौंकने वाले हिरण, साही और काले भालू जैसे पक्षियों और जानवरों की कई प्रजातियों का घर है। पहाड़ी से पास की पहाड़ियों और घाघरा गाँव के सुंदर दृश्य दिखाई देते हैं। यह स्थानीय और पर्यटकों के लिए समान रूप से ट्रेकिंग, कैंपिंग और बर्ड वाचिंग के लिए एक लोकप्रिय स्थान है।

Buddh Pahar

बुद्ध पहाड़ भारत के झारखंड राज्य में स्थित एक पहाड़ी स्थल है। यह गिरिडीह शहर से लगभग 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह स्थल पुरातात्विक खंडहरों के पुरातात्विक अवशेषों के लिए प्रसिद्ध है, जिसमें खुदी हुई ईंट की दीवारें और खंभे शामिल हैं, जो ईसा पूर्व चौथी शताब्दी में मौर्यों के समय के हैं। यूनेस्को ने बुद्ध पहाड़ को अपनी संभावित विश्व धरोहर स्थलों की सूची में शामिल किया, लेकिन इसे अंकित नहीं किया गया था।

बुद्ध पहाड़ बौद्ध धर्म, हिंदू धर्म और जैन धर्म के अनुयायियों के लिए एक प्रमुख तीर्थ स्थल है, और हर साल हजारों पर्यटकों को आकर्षित करता है। यह स्थल धार्मिक और पुरातात्विक महत्व का भी है, क्योंकि इसमें बुद्ध के कुछ शुरुआती ज्ञात चित्रण शामिल हैं, जिनमें बौद्ध जातक कथाओं की कहानियों का चित्रण भी शामिल है। पहाड़ी स्थल के आसपास का क्षेत्र भारी जंगलों से घिरा है, और चोटी से दृश्य आश्चर्यजनक हैं।

Rajrappa Falls

रजरप्पा जलप्रपात झारखंड के रांची जिले में रामगढ़ के पास स्थित एक जलप्रपात है। यह दामोदर नदी से बना है और हरे-भरे जंगलों से घिरा हुआ है। यह एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है और इसे राज्य के सबसे पवित्र स्थानों में से एक माना जाता है। झरने के पास छिन्ना मस्ता मंदिर नामक एक मंदिर है जो देवी छिन्ना मस्ता को समर्पित है। इस स्थान पर पूरे भारत और पड़ोसी देशों के तीर्थयात्री आते हैं। यह स्थान सितंबर-अक्टूबर के महीनों के दौरान एक वार्षिक मेला भी आयोजित करता है जो विभिन्न स्थानों से हजारों लोगों को आकर्षित करता है। यह प्रकृति प्रेमियों और साहसिक चाहने वालों के लिए एक आदर्श स्थान है।

Gondpara Lake

गोंदपारा झील भारत के झारखंड के सिमडेगा जिले में स्थित एक झील है। यह बरमू ब्लॉक से लगभग 8 किमी दूर नारकी (सिमडेगा) गांव में स्थित एक कृत्रिम झील है। झील का निर्माण कृषि विज्ञान केंद्र, बर्मू की सिंचाई परियोजना द्वारा किया गया था। यह एक मध्यम आकार की झील है और प्रवासी पक्षियों को एक उपयुक्त और मेहमाननवाज आवास प्रदान करती है। यह झील अपने खूबसूरत और शांत परिवेश के लिए भी जानी जाती है जो इसे एक सार्थक पर्यटन स्थल बनाती है। झील का जलग्रहण क्षेत्र लगभग 200 हेक्टेयर है, और इसका उपयोग वर्षा जल संचयन के लिए किया जाता है। यह मिट्टी के कटाव में भी योगदान देता है और क्षेत्र में भूजल तालिका को बनाए रखने में मदद करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार