Narpuh

Narpuh : एकमात्र प्राचीन जंगल नरपुह पूर्वी जैंतिया गारो हिल्स मेघालय

Rate this post

Narpuh : नरपुह वन्यजीव अभयारण्य मेघालय, भारत के पूर्वी गारो हिल्स जिले में पूर्वी जैंतिया हिल्स जिला, जोवाई से लगभग 78 किलोमीटर की दूरी और शिलांग से लगभग 155 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक संरक्षित क्षेत्र है। 1987 में स्थापित, अभयारण्य लगभग 59.9 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करता है और वनस्पतियों और जीवों की विविध श्रेणी का घर है। पूर्वी और पश्चिमी जैंतिया पहाड़ी में मेघालय के पूर्वी हिस्से में बचा हुआ एकमात्र बड़ा प्राचीन जंगल क्षेत्र है। इस क्षेत्र में मेघालय के कुछ सबसे ऊंचे सदाबहार और अर्ध-सदाबहार जंगल बचे हैं। प्रजातियों जैसे हूलॉक गिब्बन, सीरो, स्लो लोरिस, पाइड हॉर्न बिल, तेंदुआ आदि का भी घर है।

यहां पक्षियों की 92 प्रजातियां, स्तनधारियों की 120 प्रजातियां, सरीसृपों की 18 प्रजातियां, 77 प्रजातियां हैं। मछलियों की और उभयचरों की 17 प्रजातियाँ।पक्षी: ओरिएंटल पाइड हॉर्नबिल, जाइंट या ग्रेट पाइड हॉर्नबिल, स्पैंगल्ड ड्रोंगो, रूफस-थ्रोटेड पार्ट्रिज आदि शामिल हैं।

  • तितलियाँ: लगभग 92 प्रजातियाँ हैं, कुछ तितलियाँ बहुत दुर्लभ हैं जो केवल नरपुह अभयारण्य में ही पाई जा सकती हैं।
  • सरीसृप:- तांबे के सिर वाले ट्रिंकेट सांप, लाल गर्दन वाले कीलबैक, मॉनिटर छिपकली, कॉमन वारानस बेंगालेंसिस, वॉटर मॉनिटर, रॉक पाइथॉन, किंग कोबरा, कॉमन कोबरा, बैंडेड क्रेट, कॉमन क्रेट, कॉमन वाइन स्नेक, ग्रीन पिट वाइपर और रेटिकुलेटेड पायथन, एशियन लीफ ट्यूल (साइक्लमिस डेंटेट), एक अल्पज्ञात टेस्टुडाइन, प्रांग और लूखा की प्रजातियां हैं।

Narpuh : नरपुह वन्यजीव अभयारण्य मेघालय

अभयारण्य गारो हिल्स के दक्षिणी ढलानों पर स्थित है और उष्णकटिबंधीय नम पर्णपाती वन और सदाबहार वन की विशेषता है। अभयारण्य में वनस्पति कई दुर्लभ और लुप्तप्राय पौधों का घर है, जिनमें आर्किड, पिचर प्लांट और सनड्यू शामिल हैं।

नरपुह वन्यजीव अभयारण्य में वन्यजीव समान रूप से विविध हैं। अभयारण्य कई प्रकार के स्तनधारियों का घर है, जिनमें एशियाई हाथी, भारतीय बाइसन, सांभर हिरण, भौंकने वाले हिरण और जंगली सूअर शामिल हैं। अभयारण्य में पक्षी जीवन भी समृद्ध है, यहाँ पक्षियों की 120 से अधिक प्रजातियाँ दर्ज की गई हैं, जिनमें हॉर्नबिल, चील और मोर शामिल हैं।

अभयारण्य प्रकृति प्रेमियों और वन्यजीव उत्साही लोगों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है। अभयारण्य और इसके वन्य जीवन का पता लगाने के लिए आगंतुक जंगल के माध्यम से निर्देशित ट्रेक ले सकते हैं। अभयारण्य शिविर लगाने, पक्षी देखने और फोटोग्राफी के अवसर भी प्रदान करता है।

नरपुह वन्यजीव अभयारण्य का प्रबंधन मेघालय वन विभाग द्वारा किया जाता है, जो अभयारण्य के भीतर वन्यजीवों और आवास की रक्षा के लिए जिम्मेदार है। विभाग ने अभयारण्य के वन्यजीवों के दीर्घकालिक अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न संरक्षण उपायों को लागू किया है, जिसमें अवैध शिकार विरोधी गश्त और आवास प्रबंधन शामिल हैं।

नरपुह वन्यजीव अभयारण्य मेघालय की प्राकृतिक विरासत का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो राज्य की कुछ सबसे प्रतिष्ठित वन्यजीव प्रजातियों के लिए घर उपलब्ध कराता है। अभयारण्य मेघालय के समृद्ध प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण को बढ़ावा देने के साथ-साथ स्थानीय अर्थव्यवस्था के लिए राजस्व उत्पन्न करने वाला एक महत्वपूर्ण ईकोटूरिज़म गंतव्य भी है।

अंत में, मेघालय में नरपुह वन्यजीव अभयारण्य एक महत्वपूर्ण संरक्षण क्षेत्र है जो वनस्पतियों और जीवों की समृद्ध विविधता का घर है। अभयारण्य की प्राकृतिक सुंदरता और वन्य जीवन इसे प्रकृति प्रेमियों और वन्यजीव उत्साही लोगों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य बनाते हैं, जबकि मेघालय वन विभाग के संरक्षण प्रयास यह सुनिश्चित करते हैं कि आने वाली पीढ़ियों के लिए अभयारण्य के कीमती संसाधनों की रक्षा की जाए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार