List of Wildlife Sanctuaries in Uttarakhand

Rate this post

यदि आप प्रकृति प्रेमी हैं और भारत में मौजूद विविध वन्य जीवन को देखने में गहरी रुचि रखते हैं, तो निस्संदेह उत्तराखंड आपकी यात्रा सूची में होना चाहिए। हिमालय की गोद में बसा यह उत्तरी राज्य अपने लुभावने परिदृश्यों, हरे-भरे जंगलों और वनस्पतियों और जीवों की अविश्वसनीय विविधता के लिए प्रसिद्ध है। इस लेख में, हम आपको उत्तराखंड के मनोरम वन्यजीव अभयारण्यों के माध्यम से एक आभासी यात्रा पर ले जाएंगे, जहां आप प्रकृति की सुंदरता को उसके शुद्धतम रूप में देख सकते हैं।

  1. Govind Pashu Vihar Wildlife Sanctuary Uttarakhand
  2. Kedarnath Wildlife Sanctuary Uttarakhand
  3. Askot Musk Deer Sanctuary Uttarakhand
  4. Sonanadi Wildlife Sanctuary Uttarakhand
  5. Binsar Wildlife Sanctuary Uttarakhand
  6. Mussoorie Wildlife Sanctuary Uttarakhand
  7. Nandhaur Wildlife Sanctuary Uttarakhand

उत्तराखंड, जिसे अक्सर “देवताओं की भूमि” कहा जाता है, वन्यजीव अभयारण्यों की एक प्रभावशाली श्रृंखला का दावा करता है जो जानवरों और पौधों की कई प्रजातियों के लिए एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करता है। ये अभयारण्य न केवल संरक्षण प्रयासों के लिए महत्वपूर्ण हैं बल्कि पारिस्थितिक पर्यटन के लिए एक असाधारण अवसर भी प्रदान करते हैं।

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क
निस्संदेह उत्तराखंड में सबसे प्रसिद्ध वन्यजीव अभयारण्य, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क वन्यजीव उत्साही और साहसिक चाहने वालों के लिए एक स्वर्ग है। प्रसिद्ध शिकारी से संरक्षणवादी बने जिम कॉर्बेट के नाम पर रखा गया यह पार्क राजसी बंगाल टाइगर, तेंदुए, हाथियों और असंख्य पक्षी प्रजातियों का घर है।

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान
शिवालिक पहाड़ियों में फैला राजाजी राष्ट्रीय उद्यान जैव विविधता का खजाना है। मायावी बाघों और तेंदुओं से लेकर चंचल हिमालयी पीले गले वाले मार्टन तक, यह पार्क उस समृद्ध वन्य जीवन की झलक प्रदान करता है जो इस क्षेत्र की शोभा बढ़ाता है।

बिनसर वन्यजीव अभयारण्य
7,900 फीट से अधिक की ऊंचाई पर स्थित, बिनसर वन्यजीव अभयारण्य आसपास की हिमालय चोटियों का मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। यह पक्षी देखने वालों के लिए स्वर्ग है, जिसमें मोनाल तीतर और कोक्लास तीतर जैसी प्रजातियाँ अपनी उपस्थिति दर्ज कराती हैं।

फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान
यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल, फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान मानसून के मौसम के दौरान एक दृश्य असाधारण है। जैसे ही अनगिनत अल्पाइन फूल खिलते हैं, घाटी रंगों के दंगे से जीवंत हो उठती है, जो देखने लायक दृश्य पैदा करती है।

गोविंद पशु विहार वन्यजीव अभयारण्य
टोंस घाटी में स्थित यह अभयारण्य मायावी हिम तेंदुए और अन्य दुर्लभ हिमालयी प्रजातियों का घर है। ऊबड़-खाबड़ इलाका और घने जंगल इसे इन शानदार प्राणियों के लिए एक आदर्श आवास बनाते हैं।

अस्कोट वन्यजीव अभयारण्य
हिमालय की गोद में बसा अस्कोट वन्यजीव अभयारण्य अपनी विविध वनस्पतियों और जीवों के लिए जाना जाता है। यह अभयारण्य हिमालयी कस्तूरी मृग, हिम तेंदुआ और लाल लोमड़ी जैसी प्रजातियों का घर है।

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान
यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल, नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान अपनी प्राचीन सुंदरता और ऊबड़-खाबड़ परिदृश्यों के लिए जाना जाता है। यह नंदा देवी शिखर और एशियाई काले भालू जैसी विभिन्न लुप्तप्राय प्रजातियों का घर है।

आसन बैराज पक्षी अभयारण्य
असन नदी के तट पर स्थित यह अभयारण्य पक्षी देखने वालों के लिए स्वर्ग है। यह विभिन्न प्रकार की निवासी और प्रवासी पक्षी प्रजातियों का घर है, जो इसे पक्षी विज्ञानियों के लिए स्वर्ग बनाता है।

सोनानदी वन्यजीव अभयारण्य
बड़े कॉर्बेट टाइगर रिजर्व का हिस्सा, सोनानदी वन्यजीव अभयारण्य हाथियों और बाघों के लिए एक महत्वपूर्ण गलियारा है। यह आगंतुकों को प्रकृति से जुड़ने के लिए एक शांत वातावरण प्रदान करता है।

केदारनाथ वन्यजीव अभयारण्य
प्रसिद्ध केदारनाथ मंदिर के आसपास, यह अभयारण्य जैव विविधता से समृद्ध है और एक अद्वितीय आध्यात्मिक और प्राकृतिक अनुभव प्रदान करता है। यह हिमालयी तहर और मायावी हिम तेंदुए जैसी प्रजातियों का घर है।

चोरगलिया ताल
अपनी आश्चर्यजनक ऊंचाई वाली झील के लिए जाना जाने वाला, चोरगलिया ताल ट्रैकर के लिए आनंददायक स्थान है। अभयारण्य विभिन्न प्रकार की पक्षी प्रजातियों का घर है और प्रकृति को उसके अबाधित रूप में देखने का अवसर प्रदान करता है।

थानो रेंज वन
अपनी हरी-भरी हरियाली और विविध वन्य जीवन के साथ, थानो रेंज फ़ॉरेस्ट प्रकृति प्रेमियों के लिए एक ज़रूरी जगह है। यह जंगल भौंकने वाले हिरण, सांभर और विभिन्न पक्षी प्रजातियों का घर है।

मसूरी वन्यजीव अभयारण्य
मसूरी के लोकप्रिय हिल स्टेशन के नजदीक, यह अभयारण्य प्रकृति में एक शांतिपूर्ण विश्राम प्रदान करता है। यह तेंदुओं, पहाड़ी बटेरों और वनस्पतियों की एक श्रृंखला का घर है जो इसके आकर्षण को बढ़ाता है।

निष्कर्ष
उत्तराखंड के वन्यजीव अभयारण्य अपनी प्राकृतिक विरासत को संरक्षित करने के लिए राज्य की प्रतिबद्धता का प्रमाण हैं। प्रत्येक अभयारण्य प्रकृति से जुड़ने, दुर्लभ और लुप्तप्राय प्रजातियों को देखने और उनके संरक्षण में योगदान करने का एक अनूठा अवसर प्रदान करता है। चाहे आप रोमांच के शौकीन हों, पक्षियों पर नज़र रखने वाले हों, या बस ऐसे व्यक्ति हों जो जंगल की सुंदरता की सराहना करते हों, उत्तराखंड के वन्यजीव अभयारण्य वास्तव में कुछ खास पेश करते हैं।

पूछे जाने वाले प्रश्न
क्या ये वन्यजीव अभयारण्य साल भर जनता के लिए खुले हैं?
क्या मैं जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में बंगाल टाइगर देख सकता हूँ?
मैं फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान तक कैसे पहुँच सकता हूँ?
क्या राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के निकट आवास उपलब्ध हैं?
इन अभयारण्यों का दौरा करते समय मुझे किन सुरक्षा उपायों का पालन करना चाहिए?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार