List of Wildlife Sanctuaries in Odisha

Rate this post

क्या आप प्रकृति प्रेमी हैं और भारत में मौजूद विविध वन्य जीवन की खोज करना चाहते हैं? ओडिशा राज्य के अलावा कहीं और न देखें, जहां ढेर सारे वन्यजीव अभयारण्य आपकी खोज का इंतजार कर रहे हैं। दुर्लभ प्रजातियों से भरे हरे-भरे जंगलों से लेकर प्राकृतिक दुनिया की झलक दिखाने वाले शांत परिदृश्य तक, ओडिशा के वन्यजीव अभयारण्य हर प्रकृति प्रेमी के लिए एक मनोरम अनुभव प्रदान करते हैं। इस लेख में, हम आपको ओडिशा के कुछ सबसे उल्लेखनीय वन्यजीव अभयारण्यों के आभासी दौरे पर ले जाएंगे, जहां मनुष्यों और जानवरों का सामंजस्यपूर्ण सह-अस्तित्व संरक्षण और जैव विविधता की एक सुंदर तस्वीर पेश करता है।

  1. Badrama Wildlife Sanctuary Odisha
  2. Bhitarkanika Wildlife Sanctuary Odisha
  3. Satkosia Gorge Wildlife Sanctuary Odisha
  4. Hadgarh Wildlife Sanctuary Odisha
  5. Nandankanan Wildlife Sanctuary Odisha
  6. Baisipalli Wildlife Sanctuary Odisha
  7. Kotgarh Wildlife Sanctuary Odisha
  8. Chandaka Elephant Sanctuary Odisha
  9. Khalasuni Wildlife Sanctuary Odisha
  10. Balukhand-Konark Wildlife Sanctuary Odisha
  11. Kuldiha Wildlife Sanctuary Odisha
  12. Debrigarh Wildlife Sanctuary Odisha
  13. Lakhari Valley Wildlife Sanctuary Odisha
  14. Nalbana Bird Sanctuary Odisha
  15. Sunabeda Tiger Reserve Odisha
  16. Gahirmatha Marine Sanctuary Odisha
  17. Karlapat Wildlife Sanctuary Odisha
  18. Kapilasa Wildlife Sanctuary Odisha
  19. Tikarpada Wildlife Sanctuary Odisha

परिचय
भारत के पूर्वी तट पर स्थित, ओडिशा में वन्यजीव अभयारण्यों की एक अविश्वसनीय श्रृंखला है जो विविध प्रकार की वनस्पतियों और जीवों का घर है। ये अभयारण्य न केवल लुप्तप्राय प्रजातियों के संरक्षण के लिए महत्वपूर्ण हैं, बल्कि पर्यावरण-पर्यटन के लिए एक अनूठा अवसर भी प्रदान करते हैं, जिससे आगंतुकों को इस राज्य की प्राकृतिक सुंदरता और समृद्ध जैव विविधता में डूबने का मौका मिलता है।

भितरकनिका वन्यजीव अभयारण्य
केंद्रपाड़ा जिले में स्थित भितरकनिका वन्यजीव अभयारण्य, सरीसृप प्रेमियों के लिए एक स्वर्ग है। खारे पानी के मगरमच्छों की बढ़ती आबादी के लिए प्रसिद्ध, यह अभयारण्य इन प्राचीन प्राणियों को उनके प्राकृतिक आवास में देखने का एक अनूठा मौका प्रदान करता है। अभयारण्य में फैले हरे-भरे मैंग्रोव और ज्वारीय नदियाँ नाव की सवारी के लिए एक सुरम्य पृष्ठभूमि बनाती हैं, जहाँ आप मगरमच्छों को धूप सेंकते हुए देख सकते हैं।

सिमलीपाल राष्ट्रीय उद्यान
सिमलीपाल नेशनल पार्क, एक यूनेस्को बायोस्फीयर रिजर्व, घने जंगलों और घुमावदार पहाड़ियों का एक विशाल विस्तार है। बाघों और हाथियों की एक महत्वपूर्ण आबादी का घर, यह प्रकृति के चमत्कारों का एक मंत्रमुग्ध कर देने वाला चित्रमाला प्रस्तुत करता है। पार्क के जोरांडा और बरेहिपानी जैसे झरने इसके आकर्षण को बढ़ाते हैं, जिससे यह फोटोग्राफर के लिए आनंददायक और ट्रेकर के लिए स्वर्ग बन जाता है।

सतकोसिया टाइगर रिजर्व
महानदी के पार फैला, सतकोसिया टाइगर रिजर्व नदी और स्थलीय वन्यजीवों को देखने का एक अनूठा अवसर प्रदान करता है। मायावी रॉयल बंगाल टाइगर इस अभ्यारण्य को अपना घर कहता है, और सतकोसिया कण्ठ के किनारे एक नाव सफारी इन राजसी प्राणियों को देखने का मौका प्रदान करती है। रिज़र्व का ऊबड़-खाबड़ इलाका और समृद्ध जैव विविधता इसे प्रकृति प्रेमियों के लिए एक आकर्षक गंतव्य बनाती है।

चिल्का झील पक्षी अभयारण्य
चिल्का झील पक्षी अभयारण्य, प्रसिद्ध चिल्का झील के तट पर स्थित है, जो प्रवासी पक्षियों का आश्रय स्थल है। सर्दियों के दौरान हजारों पक्षी पर्यटक झील पर आते हैं, जिससे एक शानदार पक्षी दृश्य बनता है। राजहंस, पेलिकन और जलचरों की विभिन्न प्रजातियाँ शांत जल की शोभा बढ़ाती हैं, जिससे यह पक्षी देखने वालों और फोटोग्राफरों के लिए स्वर्ग बन जाता है।

डेब्रीगढ़ वन्यजीव अभयारण्य
हीराकुंड बांध के पास स्थित डेब्रीगढ़ वन्यजीव अभयारण्य की विशेषता इसके लहरदार परिदृश्य और प्राचीन जल निकाय हैं। यह हिरणों और प्रवासी पक्षियों की कई प्रजातियों के लिए एक महत्वपूर्ण निवास स्थान है। अभयारण्य की मनोरम सुंदरता, वन्य जीवन को देखने के रोमांच के साथ मिलकर, इसे एक शांत लेकिन साहसिक विश्राम के लिए एक आदर्श स्थान बनाती है।

कुलडीहा वन्यजीव अभयारण्य
कुलडीहा वन्यजीव अभयारण्य बालासोर जिले में स्थित एक रत्न है। इसके घने जंगल और पहाड़ी इलाके वनस्पतियों और जीवों की विभिन्न प्रजातियों के लिए एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करते हैं। अभयारण्य के हरे-भरे रास्तों पर ट्रैकिंग करने से भौंकने वाले हिरण, विशाल गिलहरियाँ और ढेर सारी पक्षी प्रजातियों को देखने का मौका मिलता है। अभयारण्य का अछूता जंगल प्रकृति के आलिंगन में एक अविस्मरणीय यात्रा का वादा करता है।

हदगढ़ वन्यजीव अभयारण्य
क्योंझर जिले में स्थित हदगढ़ वन्यजीव अभयारण्य अपनी जीवंत जैव विविधता और ऊबड़-खाबड़ परिदृश्यों के लिए जाना जाता है। अभयारण्य की हरी-भरी घाटियाँ और चमचमाती जलधाराएँ तेंदुए, हाथी और सांभर हिरण जैसी प्रजातियों द्वारा बसाई गई हैं। इसकी अदम्य सुंदरता की खोज एक रोमांचक अनुभव है जो आगंतुकों को प्रकृति के मूल सार से जोड़ता है।

नंदनकानन प्राणी उद्यान
नंदनकानन प्राणी उद्यान, राजधानी भुवनेश्वर के पास स्थित है, जो वन्यजीव संरक्षण और मनोरंजन का मिश्रण प्रदान करता है। दुर्लभ सफेद बाघों का घर, यह प्राणी उद्यान विभिन्न प्रजातियों के लिए एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करता है। पार्क की सफारी सवारी और अच्छी तरह से डिज़ाइन किए गए बाड़े आगंतुकों को दुनिया भर के जानवरों के करीब आने की अनुमति देते हैं, जिससे वन्यजीवों के लिए प्रशंसा और सम्मान की भावना बढ़ती है।

गहिरमाथा समुद्री अभयारण्य
बंगाल की खाड़ी के किनारे गहिरमाथा समुद्री अभयारण्य, लुप्तप्राय ओलिव रिडले समुद्री कछुओं के लिए एक महत्वपूर्ण घोंसला स्थल है। हर साल, ये समुद्री जीव रेतीले तटों पर अपने अंडे देने के लिए एक अविश्वसनीय यात्रा पर निकलते हैं। इस प्राकृतिक घटना को देखना एक विनम्र अनुभव है जो समुद्री संरक्षण के महत्व को रेखांकित करता है।

टिकरपाड़ा वन्यजीव अभयारण्य
महानदी नदी के तट पर स्थित टिकरपाड़ा वन्यजीव अभयारण्य, प्रकृति के आलिंगन में एक शांत विश्राम प्रदान करता है। अभयारण्य का मुख्य आकर्षण घड़ियाल है, जो मछली खाने वाली मगरमच्छ प्रजाति है। धूप सेंकते इन अनोखे सरीसृपों का दृश्य इस अभयारण्य के भीतर मौजूद जीवन के जटिल जाल की याद दिलाता है।

बालूखंड-कोणार्क वन्यजीव अभयारण्य
बालूखंड-कोणार्क वन्यजीव अभयारण्य, प्रसिद्ध कोणार्क सूर्य मंदिर के बगल में, वन्यजीव प्रेमियों के लिए एक तटीय आश्रय स्थल है। यह विभिन्न प्रकार की प्रजातियों का घर है, जिनमें चित्तीदार हिरण, काले हिरण और जंगली सूअर शामिल हैं। अभयारण्य की बंगाल की खाड़ी से निकटता इसके भीतर पनपने वाले जीवंत पारिस्थितिकी तंत्र में शांति का स्पर्श जोड़ती है।

बद्रमा वन्यजीव अभयारण्य
संबलपुर जिले में प्रकृति की गोद में बसा बदरमा वन्यजीव अभयारण्य, एकांत चाहने वालों के लिए एक सुंदर विश्राम स्थल प्रदान करता है। अभयारण्य के विविध आवास, नम पर्णपाती जंगलों से लेकर घास के मैदानों तक, वन्यजीवों की एक श्रृंखला का समर्थन करते हैं। पर्यटक अपने प्राकृतिक आवास में हाथियों, स्लॉथ भालू और असंख्य पक्षी प्रजातियों की झलक देख सकते हैं।

कोटागढ़ वन्यजीव अभयारण्य
कंधमाल जिले में स्थित कोटागढ़ वन्यजीव अभयारण्य, जंगलों, घाटियों और घास के मैदानों का मिश्रण है। यह अभयारण्य मायावी बादलों वाले तेंदुए और हिरणों की विभिन्न प्रजातियों का अभयारण्य है। इसके अछूते जंगल की खोज करना एक पुरस्कृत अनुभव है जो ओडिशा की प्राकृतिक विरासत के छिपे हुए खजाने को उजागर करता है।

खलासुनी वन्यजीव अभयारण्य
संबलपुर जिले में स्थित खलासुनी वन्यजीव अभयारण्य, मनमोहक परिदृश्य और प्राचीन जल निकायों का एक क्षेत्र है। यह भारतीय गौर, एक राजसी गोजातीय प्रजाति और चार सींग वाले मृग का घर है। अभयारण्य की मनमोहक सुंदरता और विविध निवासी इसे प्रकृति प्रेमियों और वन्यजीव फोटोग्राफरों दोनों के लिए अवश्य देखने लायक बनाते हैं।

निष्कर्ष
ओडिशा के वन्यजीव अभयारण्य अपनी प्राकृतिक विरासत के संरक्षण के लिए राज्य की प्रतिबद्धता का प्रमाण हैं। प्रत्येक अभयारण्य प्रकृति से जुड़ने और पशु साम्राज्य की सुंदरता को उसके सबसे कच्चे रूप में देखने का एक अनूठा अवसर प्रस्तुत करता है। जैसे ही आप इन अभयारण्यों के माध्यम से अपनी यात्रा शुरू करते हैं, हल्के ढंग से चलना और इन पारिस्थितिक तंत्रों को बनाए रखने वाले नाजुक संतुलन का सम्मान करना याद रखें।

पूछे जाने वाले प्रश्न
क्या ये अभयारण्य साल भर जनता के लिए खुले हैं?
हाँ, इनमें से अधिकांश अभयारण्य पूरे वर्ष जनता के लिए खुले रहते हैं, लेकिन सलाह दी जाती है कि किसी मौसमी बंदी या प्रतिबंध की जाँच कर लें।

क्या मैं इन वन्यजीव अभ्यारण्यों में बाघ देख सकता हूँ?
हाँ, कुछ अभयारण्य, जैसे कि सिमलीपाल और सतकोसिया, बंगाल बाघों का घर हैं। हालाँकि, इन प्राणियों की मायावी प्रकृति के कारण बाघ के दिखने की गारंटी नहीं है।

पक्षी देखने के लिए जाने का सबसे अच्छा समय क्या है?
सर्दियों के महीने, नवंबर से फरवरी तक, पक्षियों को देखने के लिए आदर्श होते हैं क्योंकि इस अवधि के दौरान कई प्रवासी पक्षी इन अभयारण्यों में आते हैं।

क्या इन अभयारण्यों के पास आवास उपलब्ध हैं?
हां, अधिकांश अभयारण्यों के पास वन लॉज से लेकर पर्यावरण-अनुकूल रिसॉर्ट्स तक आवास उपलब्ध हैं।

मैं इन अभयारण्यों के संरक्षण प्रयासों में कैसे योगदान दे सकता हूँ?
आप जिम्मेदार पर्यावरण-पर्यटन प्रथाओं का पालन करके, स्थानीय संरक्षण पहलों का समर्थन करके और वन्यजीव संरक्षण के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाकर योगदान कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार