Kotgarh Wildlife Sanctuary Odisha

5/5 - (1 vote)

कोटगढ़ वन्यजीव अभयारण्य भारतीय राज्य ओडिशा के कंधमाल जिले में स्थित एक संरक्षित क्षेत्र है। यह लगभग 400 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है और विभिन्न प्रकार की वनस्पतियों और जीवों का घर है। अभयारण्य की स्थापना 1981 में लुप्तप्राय भौंकने वाले हिरण और अन्य वन्यजीव प्रजातियों की रक्षा के लिए की गई थी।

अभयारण्य पूर्वी घाट में स्थित है और घने जंगलों, झरनों और धाराओं के साथ एक पहाड़ी इलाके की विशेषता है। अभयारण्य की जलवायु उष्णकटिबंधीय है, मानसून के मौसम में भारी वर्षा होती है।

अभयारण्य में पाए जाने वाले कुछ उल्लेखनीय वन्यजीव प्रजातियों में भौंकने वाले हिरण, सांभर हिरण, चित्तीदार हिरण, माउस हिरण, भारतीय विशाल गिलहरी, तेंदुआ, जंगली कुत्ता और भारतीय पैंगोलिन शामिल हैं। अभयारण्य कई प्रकार की पक्षी प्रजातियों का भी घर है, जैसे पहाड़ी मैना, क्रेस्टेड सर्पेंट ईगल और ग्रे हॉर्नबिल।

पर्यटक अभयारण्य की यात्रा कर सकते हैं और प्रकृति की सैर, पक्षियों को देखना और ट्रेकिंग जैसी गतिविधियों में भाग ले सकते हैं। अभयारण्य की यात्रा का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च तक है जब मौसम सुहावना होता है और वन्यजीव अधिक सक्रिय होते हैं। हालांकि, आगंतुकों को वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए सख्त नियमों के बारे में पता होना चाहिए और इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अभयारण्य में किसी भी जानवर या पौधों को परेशान या नुकसान न पहुंचे।

कोटगढ़ वन्यजीव अभयारण्य भारतीय राज्य ओडिशा के कंधमाल जिले में स्थित एक संरक्षित क्षेत्र है। अभयारण्य लगभग 400 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है और विभिन्न प्रकार की वनस्पतियों और जीवों का घर है। अभयारण्य की स्थापना 1981 में लुप्तप्राय भौंकने वाले हिरण और अन्य वन्यजीव प्रजातियों की रक्षा के लिए की गई थी।

अभयारण्य पूर्वी घाट में स्थित है और घने जंगलों, झरनों और धाराओं के साथ एक पहाड़ी इलाके की विशेषता है। अभयारण्य की जलवायु उष्णकटिबंधीय है, मानसून के मौसम में भारी वर्षा होती है।

अभयारण्य कई प्रकार की वन्यजीव प्रजातियों का घर है जैसे भौंकने वाला हिरण, सांभर हिरण, चित्तीदार हिरण, माउस हिरण, भारतीय विशाल गिलहरी, तेंदुआ, जंगली कुत्ता और भारतीय पैंगोलिन। अभयारण्य कई प्रकार की पक्षी प्रजातियों का भी घर है, जैसे पहाड़ी मैना, क्रेस्टेड सर्पेंट ईगल और ग्रे हॉर्नबिल।

भौंकने वाला हिरण अभयारण्य में सबसे महत्वपूर्ण जानवरों में से एक है, और इस अभयारण्य की स्थापना मुख्य रूप से इस प्रजाति की रक्षा के लिए की गई थी। भौंकने वाला हिरण एक छोटा, शर्मीला हिरण है जो भारत और दक्षिण पूर्व एशिया के जंगली क्षेत्रों में पाया जाता है। भौंकने वाला हिरण एक लुप्तप्राय प्रजाति है, और अभयारण्य इन जानवरों के रहने और प्रजनन के लिए एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करता है।

भौंकने वाले हिरण के अलावा, अभयारण्य हिरण की अन्य प्रजातियों जैसे सांभर हिरण और चित्तीदार हिरण का भी घर है। सांभर हिरण भारत में पाए जाने वाले हिरणों की सबसे बड़ी प्रजाति है और अपने विशिष्ट सींगों के लिए जाना जाता है। चित्तीदार हिरण एक छोटी हिरण प्रजाति है जो भूरे रंग के कोट पर सफेद धब्बों के लिए जानी जाती है।

भारतीय विशाल गिलहरी अभयारण्य में पाई जाने वाली एक अन्य महत्वपूर्ण प्रजाति है। भारतीय विशाल गिलहरी दुनिया में पाई जाने वाली गिलहरी की सबसे बड़ी प्रजातियों में से एक है और अपने जीवंत, रंगीन फर के लिए जानी जाती है। गिलहरी एक वृक्षवासी जानवर है जो अपना अधिकांश जीवन पेड़ों में बिताती है।

अभयारण्य तेंदुए का घर भी है, जो एक बड़ा और शक्तिशाली शिकारी है। तेंदुआ एक मायावी जानवर है और अभयारण्य में बहुत कम देखा जाता है। हालांकि, कभी-कभी आगंतुक भाग्यशाली होने पर इन राजसी जानवरों की एक झलक देख सकते हैं।

अभयारण्य कई प्रकार की पक्षी प्रजातियों का भी घर है, जैसे पहाड़ी मैना, क्रेस्टेड सर्पेंट ईगल और ग्रे हॉर्नबिल। पहाड़ी मैना एक विशिष्ट मधुर आवाज वाला एक सुंदर पक्षी है। क्रेस्टेड सर्पेंट ईगल शिकार का एक पक्षी है जो भारत और दक्षिण पूर्व एशिया के जंगली क्षेत्रों में पाया जाता है। ग्रे हॉर्नबिल एक बड़ा पक्षी है जो अपनी विशिष्ट, घुमावदार चोंच के लिए जाना जाता है।

पर्यटक अभयारण्य की यात्रा कर सकते हैं और प्रकृति की सैर, पक्षियों को देखना और ट्रेकिंग जैसी गतिविधियों में भाग ले सकते हैं। अभयारण्य की यात्रा का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च तक है जब मौसम सुहावना होता है और वन्यजीव अधिक सक्रिय होते हैं। हालांकि, आगंतुकों को वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए सख्त नियमों के बारे में पता होना चाहिए और इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अभयारण्य में किसी भी जानवर या पौधों को परेशान या नुकसान न पहुंचे।

अंत में, कोटगढ़ वन्यजीव अभयारण्य ओडिशा के कंधमाल जिले में एक संरक्षित क्षेत्र है जो विभिन्न प्रकार की वन्यजीव प्रजातियों जैसे भौंकने वाले हिरण, सांभर हिरण, भारतीय विशाल गिलहरी, तेंदुए और विभिन्न प्रकार की पक्षी प्रजातियों का घर है। अभयारण्य की स्थापना 1981 में लुप्तप्राय भौंकने वाले हिरणों की रक्षा के लिए की गई थी, और यह इन जानवरों को रहने और प्रजनन के लिए एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करता है। पर्यटक अभयारण्य की यात्रा कर सकते हैं और प्रकृति की सैर, पक्षियों को देखने और ट्रेकिंग जैसी गतिविधियों में भाग ले सकते हैं, लेकिन उन्हें वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए सख्त नियमों के बारे में पता होना चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार