Kalsubai Harishchandragad Wildlife Sanctuary Maharashtra

पश्चिमी घाट का गहना कलसुबाई हरिश्चंद्रगढ़ वन्यजीव अभयारण्य | Kalsubai Harishchandragad Wildlife Sanctuary Maharashtra

Rate this post

Kalsubai Harishchandragad : कलसुबाई हरिश्चंद्रगढ़ वन्यजीव अभयारण्य, जिसे अक्सर ‘पश्चिमी घाट का गहना’ कहा जाता है, महाराष्ट्र की प्राकृतिक सुंदरता और जैव विविधता का एक प्रमाण है। लगभग 710 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैले इस अभयारण्य का नाम इसकी दो प्रमुख चोटियों, कलसुबाई जो महाराष्ट्र का सबसे ऊँचा स्थान है और हरिश्चंद्रगढ़ के नाम पर रखा गया है, जो दोनों प्रसिद्ध पर्वतारोहण स्थल हैं। महाराष्ट्र में अहमदनगर जिले के अकोले और पाथर्डी तालुका में स्थित यह अभयारण्य ऊबड़-खाबड़ पहाड़ियों, सह्याद्रि पहाड़ियों के घने जंगलों और बहती नदियों से घिरा हुआ है। इसकी भौगोलिक विविधता, समुद्र तल से 2,000 से 5,400 फीट तक की ऊंचाई के साथ, पौधों और जानवरों की विभिन्न प्रजातियों के लिए आवास बनाती है।

यह अभयारण्य पौधों की 450 से अधिक प्रजातियों के साथ, वनस्पतियों की एक समृद्ध विविधता का दावा करता है। आप हरे-भरे सदाबहार जंगलों, घास के मैदानों और औषधीय जड़ी-बूटियों का सामना करेंगे जो इस क्षेत्र के अद्वितीय आकर्षण में योगदान करते हैं। दुर्लभ और लुप्तप्राय पौधों की प्रजातियों की उपस्थिति अभयारण्य के पारिस्थितिक महत्व को बढ़ाती है। यदि आप दिल से प्रकृति प्रेमी और साहसी हैं, तो महाराष्ट्र में कलसुबाई हरिश्चंद्रगढ़ वन्यजीव अभयारण्य पश्चिमी घाट की सह्याद्री श्रृंखला में स्थित है।

कलसुबाई हरिश्चंद्रगढ़ अभयारण्य में विभिन्न प्रकार के स्तनधारियों और सरीसृपों है, जिनमें तेंदुए, जंगली बिल्लियाँ, भारतीय बाइसन (गौर), पाम सिवेट, भेड़िये, सियार, लोमड़ी, स्लॉथ भालू, जंगली सूअर, मॉनिटर छिपकली, फैन-थ्रोटेड छिपकली और कछुए से लेकर अजगर और कोबरा जैसे सरीसृप तक शामिल हैं। पक्षी में मालाबार व्हिस्लिंग थ्रश और इंडियन ग्रे हॉर्नबिल जैसी प्रजातियों को भी देख सकते हैं। आप निकटतम रेलवे स्टेशन इगतपुरी और कसारा से या निकटतम बस स्टैंड इगतपुरी यहाँ आ सकतें हैं। कलसुबाई ट्रेक की चढ़ाई मध्यम है, जो कभी लंबा सफर है, पहाड़ी की चोटी के ऊपर तक सीढ़ियाँ बनी हुई हैं।

कलसुबाई चोटी

5,400 फीट ऊंची कलसुबाई चोटी, महाराष्ट्र की सबसे ऊंची चोटी है। इसके शिखर तक की यात्रा एक रोमांचकारी साहसिक कार्य है, जो पश्चिमी घाट के मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। शिखर के ऊपर कलसुबाई देवी का मंदिर एक प्रतिष्ठित तीर्थ स्थल है और यात्रा में आध्यात्मिक स्पर्श जोड़ता है।

हरिश्चंद्रगढ़:

हरिश्चंद्रगढ़, एक अन्य प्रमुख चोटी, ट्रेकर्स का स्वर्ग है। इस प्राचीन पहाड़ी किले की यात्रा चुनौतीपूर्ण और फायदेमंद दोनों है। पर्यटक गुफाओं, मंदिरों और प्रसिद्ध कोंकण काडा की खोज कर सकते हैं, एक चट्टान जो कोंकण क्षेत्र का अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करती है।

साहसिक गतिविधियाँ

ट्रैकिंग के अलावा, अभयारण्य रॉक क्लाइंबिंग, रैपलिंग और कैंपिंग के अवसर प्रदान करता है। साहसिक प्रेमी अनुभवी प्रशिक्षकों के मार्गदर्शन में इन गतिविधियों में संलग्न हो सकते हैं।

घूमने का सबसे अच्छा समय

कलसुबाई हरिश्चंद्रगढ़ वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा का सबसे अच्छा समय सितंबर से नवंबर तक मानसून के बाद का मौसम है जब आसपास का वातावरण हरा-भरा होता है और मौसम सुहावना होता है।

कलसुबाई हरिश्चंद्रगढ़ वन्यजीव अभयारण्य तक कैसे पहुंचें

मुंबई और पुणे जैसे प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग द्वारा अभयारण्य तक पहुंचना सुविधाजनक है। निकटतम रेलवे स्टेशन इगतपुरी है, और बसें और टैक्सियाँ आसानी से उपलब्ध हैं।

आवास विकल्प

आगंतुक वन गेस्टहाउस, होमस्टे और कैंपसाइट सहित कई आवास विकल्पों में से चुन सकते हैं। अग्रिम बुकिंग की सलाह दी जाती है, खासकर पीक सीजन के दौरान।

आगंतुकों के लिए सुरक्षा उपाय

अभयारण्य की खोज करते समय, सुरक्षा दिशानिर्देशों का पालन करना महत्वपूर्ण है। पर्याप्त पानी साथ रखें, उचित कपड़े और जूते पहनें और अपनी ट्रैकिंग योजनाओं के बारे में किसी को सूचित करें।

स्थानीय संस्कृति और परंपराएँ

स्थानीय समुदायों, मुख्य रूप से आदिवासी, के साथ बातचीत करने से उनके अनूठे रीति-रिवाजों, परंपराओं और व्यंजनों की झलक मिलती है। अपनी यात्रा के दौरान उनकी जीवनशैली के प्रति सम्मान दिखाएं।

फोटोग्राफी और बर्डवॉचिंग

फोटोग्राफरों को इस अभयारण्य की सुंदरता को कैद करने के अनंत अवसर मिलेंगे। पक्षी देखने वाले अपने प्राकृतिक आवास में दुर्लभ पक्षी प्रजातियों को देख सकते हैं, जिससे यह प्रकृति फोटोग्राफी के लिए स्वर्ग बन जाता है।

अभयारण्य के नाजुक पारिस्थितिकी तंत्र की रक्षा के लिए संरक्षण के प्रयास चल रहे हैं। आगंतुकों को पर्यावरण पर इसके प्रभाव को कम करने और पर्यावरण-अनुकूल प्रथाओं का पालन करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। एक यादगार अनुभव आपका इंतजार कर रहा है। कलसुबाई हरिश्चंद्रगढ़ वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा सिर्फ एक साहसिक कार्य नहीं है; यह प्रकृति के आश्चर्यों के केंद्र में एक यात्रा है। अपने मनोरम परिदृश्यों, समृद्ध जैव विविधता और रोमांचक ट्रैकिंग अनुभवों के साथ, यह अभयारण्य प्रत्येक आगंतुक के लिए एक यादगार और समृद्ध अनुभव का वादा करता है।

महाराष्ट्र के इस छिपे हुए रत्न की यात्रा की योजना बनाएं, शांत जंगल में डूब जाएं और ऐसी यादें बनाएं जो जीवन भर याद रहेंगी। कलसुबाई हरिश्चंद्रगढ़ वन्यजीव अभयारण्य आपको इसकी सुंदरता और रहस्य का पता लगाने के लिए आमंत्रित करता है।

पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या कलसुबाई पीक की यात्रा शुरुआती लोगों के लिए उपयुक्त है?

हां, यह ट्रेक थोड़ा चुनौतीपूर्ण है और बुनियादी फिटनेस स्तर वाले शुरुआती लोग इसे कर सकते हैं।

अभयारण्य में पक्षियों को देखने का सबसे अच्छा समय क्या है?

सितंबर से नवंबर तक मानसून के बाद का मौसम पक्षियों को देखने के लिए आदर्श है क्योंकि इस अवधि के दौरान प्रवासी पक्षी आते हैं।

क्या अभयारण्य के भीतर फोटोग्राफी पर कोई प्रतिबंध है?

हालाँकि फोटोग्राफी की अनुमति है, लेकिन वन्य जीवन को परेशान करने से बचना और नैतिक फोटोग्राफी प्रथाओं का पालन करना महत्वपूर्ण है।

क्या मैं पवित्रस्थान के अंदर डेरा डाल सकता हूँ?

हाँ, निर्दिष्ट शिविर स्थलों पर शिविर लगाने की अनुमति है, और आप तारों के नीचे सोने के अनूठे अनुभव का आनंद ले सकते हैं।

क्या अभयारण्य में कोई चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध हैं?

बुनियादी चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध हैं, लेकिन सलाह दी जाती है कि अपनी यात्रा के दौरान प्राथमिक चिकित्सा किट और सभी आवश्यक दवाएं अपने साथ रखें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार