Hoollongapar Gibbon Sanctuary Assam

Hoollongapar Gibbon Sanctuary Assam : हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य असम !

5/5 - (1 vote)

Hoollongapar Gibbon Sanctuary Assam : भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम के जोरहाट जिले में स्थित हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य, गंभीर रूप से लुप्तप्राय हूलॉक गिबन्स के लिए एक आश्रय स्थल है। यह विशेष रूप से अपने संरक्षण प्रयासों सदाबहार वन और हूलॉक गिबन्स के संरक्षण के लिए जाना जाता है, जो भारत में पाए जाने वाले एकमात्र वानर (गिबन्स या हूलॉक गिबन्स) हैं। अभयारण्य असम के जोरहाट जिले में स्थित है और लगभग 20 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला यह अभयारण्य एक विविध पारिस्थितिक तंत्र समृद्ध जैव विविधता है, जो मायावी हूलॉक गिबन्स, निशाचर, बंगाल स्लो लोरिस सहित कई प्रजातियों के लिए एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करता है। 25 मई 2004 से पहले इसे गिब्बन वन्यजीव अभयारण्य या होल्लोंगापर रिजर्व फ़ॉरेस्ट के रूप में जाना जाता था।

हूलोंगापर गिब्बन अभयारण्य की स्थापना 1997 में हूलॉक गिबन्स की सुरक्षा के प्राथमिक उद्देश्य से की गई थी, जो एक लुप्तप्राय प्रजाति है। इन गिबन्स की विशेषता उनकी अनूठी विशेषताओं, जैसे कि सफेद दाढ़ी और लंबी भुजाएँ हैं। वे अत्यधिक वानस्पतिक हैं और अपने अस्तित्व के लिए घने वन चंदवा पर निर्भर हैं। जो अपने हरे-भरे परिदृश्य और चाय के बागानों के लिए जाना जाता है। अभयारण्य की रणनीतिक स्थिति इसे प्रकृति के प्रति उत्साही और वन्यजीव प्रेमियों के लिए आसानी से सुलभ बनाती है।

आज भारत का असम राज्य वन्य जीवन से प्राकृतिक रूप से समृद्ध और संपन्न है। अधिकतर पर्यटकों को यही पता होता हैं की असम एक सींग वाले गैंडे के कारण प्रसिद्ध हैं परन्तु असम के जोरहाट में हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य एक विशेष स्थान है। क्योंकि भारत में पाए जाने वाले एकमात्र वानर, हूलॉक गिबन्स यहाँ पाया जाता हैं। जब भी आप असम या माजुली की अद्भुत यात्रा करें तो एक बार हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य का दौरा जरुर करें।

असम का हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य वास्तव में चाय बागानों और छोटे गांवों के बीच में स्थित जहाँ असम-नागालैंड सीमा के पास एक अलग वन ट्रैक संरक्षित है। प्रारंभ में, यह जंगल पटकाई रेंज की तलहटी तक फैला हुआ था। जब 1997 में जंगल को वन्यजीव अभ्यारण्य घोषित किया गया, तब भी जंगल असम से नागालैंड तक फैला हुआ था। लेकिन चाय बागानों और मानव बस्तियों के व्यापक विस्तार ने जंगल को खंडित कर दिया और अब यह रिजर्व जंगल तलहटी से अलग हो गया। इसके साथ ही, अभ्यारण्य के बीच से गुजरने वाले एक रेलवे ट्रैक ने इसे बीच से और खंडित कर दिया है। वर्तमान समय में, अभयारण्य पांच खंडों में विभाजित है

इसके अलावा अभयारण्य में अन्य जीव प्राइमेट्स में स्टंप-टेल्ड मकाक, उत्तरी सुअर-पूंछ मकाक, पूर्वी असमिया मकाक, रीसस मकाक और कैप्ड लंगूर शामिल हैं। इसके अलावा अभयारण्य में पाए जाने वाले भारतीय हाथी, बाघ, तेंदुए, जंगली बिल्लियाँ, जंगली सूअर, तीन प्रकार की सिवेट, चार प्रकार की गिलहरी, और कई अन्य प्रकार के स्तनपायी हैं। पार्क में पक्षियों की कम से कम 219 प्रजातियाँ और कई प्रकार के साँप पाए जाते हैं।

अभयारण्य की मनमोहक वनस्पतियाँ और जीव इसे प्रकृति के प्रति उत्साही लोगों के लिए स्वर्ग बनाते हैं। घने जंगलों में कई तरह की पेड़ प्रजातियां पाई जाती हैं, जिनमें होलोंग भी शामिल है, जहां से इस अभयारण्य का नाम पड़ा है। हूलॉक गिबन्स के अलावा विविध वनस्पति कई जानवरों की प्रजातियों जैसे तेंदुए, हाथी, हिरण और लंगूरों के लिए एक उपयुक्त आवास प्रदान करती है।

कामाख्या देवी मंदिर गुवाहाटी, असम

Hoollongapar Gibbon Sanctuary Assam

अभयारण्य मुख्य रूप से उष्णकटिबंधीय सदाबहार वनों से बना है, जो गिबन्स के लिए एक आदर्श आवास प्रदान करते हैं। हूलॉक गिबन्स के अलावा, अभयारण्य प्राइमेट्स की कई अन्य प्रजातियों का भी घर है, जिनमें स्टंप-टेल्ड मकाक, कैप्ड लंगूर और स्लो लोरिस शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, यह वनस्पतियों और जीवों की समृद्ध विविधता का समर्थन करता है, जिससे यह क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण जैव विविधता हॉटस्पॉट बन जाता है।

हुल्लोंगापार गिब्बन अभयारण्य गिबन्स के लिए एक प्राकृतिक और अबाधित वातावरण प्रदान करता है, उन्हें पर्याप्त खाद्य संसाधन और बाहरी खतरों से सुरक्षा प्रदान करता है। हालांकि, कई अन्य वन्यजीव अभ्यारण्यों की तरह, यह आवास विखंडन, अतिक्रमण और अवैध शिकार जैसी चुनौतियों का सामना करता है, जो संरक्षण प्रयासों के लिए खतरा पैदा करते हैं।

Sepahijala Wildlife Sanctuary Tripura

अभयारण्य और इसके निवासियों की सुरक्षा के लिए असम वन विभाग और विभिन्न संरक्षण संगठनों द्वारा प्रयास किए जा रहे हैं। हूलॉक गिबन्स और अभयारण्य के समग्र पारिस्थितिकी तंत्र के दीर्घकालिक अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए नियमित निगरानी, ​​अवैध शिकार विरोधी उपाय और जागरूकता अभियान चलाए जाते हैं।

अभ्यारण्य में आने वाले लोग गिबन्स की मंत्रमुग्ध कर देने वाली आवाजों और चंचल हरकतों से मुग्ध होते हुए प्रकृति की पगडंडियों और पक्षियों को देखने के अवसरों का आनंद ले सकते हैं। अभयारण्य व्यवहार और पारिस्थितिकी के अध्ययन के लिए एक महत्वपूर्ण शैक्षिक और अनुसंधान केंद्र के रूप में कार्य करता है।

अंत में, असम, भारत में हूलोंगापर गिब्बन अभयारण्य, लुप्तप्राय हूलॉक गिबन्स के संरक्षण और संरक्षण के लिए समर्पित एक महत्वपूर्ण अभयारण्य है। यह क्षेत्र की अद्वितीय जैव विविधता के संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और आगंतुकों को प्रकृति से जुड़ने और इन अविश्वसनीय प्राइमेट्स की सुंदरता को देखने का एक शानदार अवसर प्रदान करता है।

संरक्षण के प्रयासों

हूलोंगापर गिब्बन अभयारण्य हूलॉक गिबन्स और अन्य लुप्तप्राय प्रजातियों के संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आवास की रक्षा, मानव-वन्यजीव संघर्ष को कम करने और स्थानीय समुदायों के बीच जागरूकता बढ़ाने के प्रयास चल रहे हैं। अभयारण्य इन कीमती प्रजातियों के दीर्घकालिक अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए संरक्षण संगठनों और सरकारी निकायों के साथ सहयोग करता है।

हुल्लोंगापार का महत्व

हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य अत्यधिक पारिस्थितिक महत्व रखता है। यह हूलॉक गिबन्स के लिए जीन पूल के रूप में कार्य करता है, वैश्विक स्तर पर उनके संरक्षण में योगदान देता है। अभयारण्य की जैव विविधता क्षेत्र के पारिस्थितिकी तंत्र के समग्र संतुलन को बनाए रखने में भी मदद करती है, जिससे यह असम की प्राकृतिक विरासत का एक महत्वपूर्ण घटक बन जाता है।

अभयारण्य के लिए खतरा

इसके महत्व के बावजूद, हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य को कई चुनौतियों और खतरों का सामना करना पड़ता है। अतिक्रमण, आवास विखंडन, अवैध शिकार और अवैध कटाई से अभयारण्य के वनस्पतियों और जीवों को गंभीर खतरा है। इन मुद्दों को संबोधित करने के लिए सख्त कानून प्रवर्तन और सामुदायिक जुड़ाव सहित सामूहिक प्रयासों की आवश्यकता है।

स्थानीय समुदाय

हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य के आसपास के स्थानीय समुदाय इसके संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इन समुदायों के साथ जुड़ना उनकी अनूठी संस्कृतियों और परंपराओं के बारे में जानने का अवसर प्रदान करता है। स्थानीय पहलों और पर्यावरण के अनुकूल प्रथाओं का समर्थन करने से क्षेत्र की प्राकृतिक विरासत का संरक्षण करते हुए उसके सतत विकास में योगदान मिल सकता है।

हुल्लोंगापार का दौरा

एक व्यापक वन्यजीव अनुभव चाहने वालों के लिए, हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य की यात्रा आवश्यक है। अभयारण्य अपने प्राकृतिक आवास में हूलॉक गिबन्स की करामाती सुंदरता को देखने का अवसर प्रदान करता है। एक सुरक्षित और सूचनात्मक यात्रा सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित पर्यटन और वन्यजीव सफारी उपलब्ध हैं।

घूमने का सबसे अच्छा समय

हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य की यात्रा का सबसे अच्छा समय सर्दियों के महीनों के दौरान नवंबर से मार्च तक है। इस अवधि के दौरान मौसम सुहावना होता है, और गिबन्स और अन्य वन्यजीवों को देखने की संभावना अधिक होती है। अपनी यात्रा की योजना बनाने से पहले मौसम की स्थिति की जांच करने और स्थानीय अधिकारियों से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

पहुँचने के लिए कैसे करें

हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य सड़क, रेल और हवाई मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम हवाई अड्डा जोरहाट हवाई अड्डा है, जो लगभग XX किलोमीटर दूर स्थित है। जोरहाट के लिए नियमित ट्रेन सेवाएं भी संचालित होती हैं, जिससे यहां आसानी से पहुंचा जा सकता है। जोरहाट से, अभयारण्य तक पहुँचने के लिए टैक्सी या स्थानीय परिवहन का लाभ उठाया जा सकता है।

आवास विकल्प

हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य के पास कई आवास विकल्प उपलब्ध हैं, जिनमें बजट गेस्टहाउस से लेकर शानदार रिसॉर्ट शामिल हैं। आराम से रहने के लिए, विशेष रूप से पीक सीजन के दौरान, अग्रिम में आवास बुक करने की सिफारिश की जाती है। कुछ लोकप्रिय विकल्पों में एक्सवाईजेड रिज़ॉर्ट, एबीसी अतिथिगृह और पीक्यूआर जंगल लॉज शामिल हैं।

वन्यजीव सफारी

अभयारण्य की समृद्ध जैव विविधता का पता लगाने के लिए एक वन्यजीव सफारी शुरू करना एक रोमांचक तरीका है। अनुभवी गाइड आगंतुकों के साथ जाते हैं, जो अभयारण्य के वनस्पतियों और जीवों में अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं। सफारी न केवल हूलॉक गिबन्स बल्कि अन्य आकर्षक वन्यजीव प्रजातियों को देखने का मौका देती है जो इस अभयारण्य को अपना घर कहते हैं।

फोटोग्राफी के अवसर

हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य प्रकृति और वन्यजीव फोटोग्राफी के लिए पर्याप्त अवसर प्रदान करता है। हरे-भरे परिवेश, विविध वन्य जीवन और सुरम्य परिदृश्य आश्चर्यजनक छवियों को कैप्चर करने के लिए एकदम सही सेटिंग बनाते हैं। एक जिम्मेदार फोटोग्राफर के रूप में, वन्यजीवों से सम्मानजनक दूरी बनाए रखना और नैतिक प्रथाओं का पालन करना महत्वपूर्ण है।

भारत के असम में हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य, हूलॉक गिब्बन और उनके आवास की रक्षा के उद्देश्य से संरक्षण प्रयासों का एक चमकदार उदाहरण है। यह अभ्यारण्य, अपनी अविश्वसनीय जैव विविधता और मनोरम परिदृश्य के साथ, प्रकृति के प्रति उत्साही और वन्यजीव प्रेमियों के लिए एक यादगार अनुभव प्रदान करता है। इस अभ्यारण्य में जाकर, संरक्षण पहलों का समर्थन करके, और जागरूकता फैलाकर, हम इस प्राकृतिक खजाने के संरक्षण में योगदान दे सकते हैं।

FAQs (पूछे जाने वाले प्रश्न)

क्या हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य में हूलॉक गिबन्स को देखा जा सकता है?

हाँ, हूलोंगापार गिब्बन अभयारण्य अपने प्राकृतिक आवास में हूलॉक गिबन्स को देखने का एक उच्च अवसर प्रदान करता है। हालांकि, वन्यजीवों का दिखना अप्रत्याशित हो सकता है, इसलिए आपकी यात्रा के दौरान धैर्य और चौकस रहने की सलाह दी जाती है।

क्या अभयारण्य के भीतर कोई आवास विकल्प हैं?

नहीं, अभयारण्य के भीतर ही कोई आवास नहीं हैं। हालाँकि, आस-पास के कस्बों और गांवों में कई विकल्प उपलब्ध हैं जो अभयारण्य में आने वाले पर्यटकों को पूरा करते हैं।

क्या अभ्यारण्य के भीतर फोटोग्राफी पर कोई प्रतिबंध है?

अभयारण्य में फोटोग्राफी की अनुमति है, लेकिन वन्यजीवों से सम्मानजनक दूरी बनाए रखना महत्वपूर्ण है। फ्लैश फोटोग्राफी के प्रयोग से बचें, क्योंकि यह जानवरों को परेशान कर सकता है। अभयारण्य के अधिकारियों द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशों का हमेशा पालन करें और वन्यजीवों के कल्याण का सम्मान करें।

क्या हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य में कोई निर्देशित पर्यटन उपलब्ध हैं?

हां, हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य में निर्देशित पर्यटन उपलब्ध हैं। ये दौरे अनुभवी गाइडों द्वारा आयोजित किए जाते हैं जो अभयारण्य की जैव विविधता में अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं और एक सुरक्षित और सूचनात्मक अनुभव सुनिश्चित करते हैं।

मैं हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य के संरक्षण में कैसे योगदान दे सकता हूं?

आप हुल्लोंगापर गिब्बन अभयारण्य के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाकर, स्थानीय संरक्षण पहलों का समर्थन करके और जिम्मेदार पर्यटन का अभ्यास करके इसके संरक्षण में योगदान कर सकते हैं। नैतिक प्रथाओं का पालन करना, अभयारण्य के नियमों का सम्मान करना और इस अद्वितीय आवास की रक्षा के महत्व के बारे में दूसरों को शिक्षित करना याद रखें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार