Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh : अब छत्तीसगढ़ के जंगलों की रक्षा करतें हैं वन्यजीव ?

Rate this post

Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh : भारत के मध्य में स्थित, छत्तीसगढ़ में हरे-भरे जंगलों से लेकर ऊंची पहाड़ियों तक विविध प्रकार के पारिस्थितिकी तंत्र हैं, जो इसे वन्यजीव प्रेमियों के लिए स्वर्ग बनाते हैं। राज्य कई वन्यजीव अभयारण्यों का घर है, जिनमें से प्रत्येक क्षेत्र की समृद्ध जैव विविधता की एक अनूठी झलक पेश करता है।

छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश दोनों राज्य में प्राकृतिक खजाना का खाजाना भरा पड़ा हैं, जो अपनी जीवंत संस्कृति और प्राकृतिक परिदृश्यों के लिए जाना जाता है, वन्यजीव अभयारण्यों की एक उल्लेखनीय संपत्ति भी समेटे हुए है। ये अभयारण्य राज्य के पारिस्थितिक संतुलन में योगदान करते हुए, वनस्पतियों और जीवों के संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

Table of Contents

इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान

जब वन्यजीव संरक्षण की बात आती है तो इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान छत्तीसगढ़ के मुकुट रत्नों में से एक है। राज्य के दक्षिणी भाग में स्थित, यह अपनी हरी-भरी हरियाली और शांत परिदृश्य के लिए जाना जाता है। यह पार्क बाघों, तेंदुओं और हिरणों की विभिन्न प्रजातियों के साथ-साथ दुर्लभ और लुप्तप्राय जंगली भैंसों का घर है।

Sitanadi Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh

अचानकमार (Achanakmar Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh) :

छत्तीसगढ़ के उत्तरी भाग में स्थित, अचानकमार वन्यजीव अभयारण्य कई प्रजातियों के लिए एक संरक्षित आश्रय स्थल है। यह अपने घने जंगलों और पहाड़ी इलाकों के लिए जाना जाता है, जो बंगाल टाइगर, तेंदुए और भारतीय विशाल गिलहरी सहित अपने निवासियों को एक सुरम्य पृष्ठभूमि प्रदान करता है।

Badalkhol Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh

बरनवापारा (Barnawapara Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh) :

छत्तीसगढ़ के उत्तरी भाग में स्थित, बारनवापारा वन्यजीव अभयारण्य प्रकृति की भव्यता का प्रमाण है। 245 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला यह अभयारण्य मुख्य रूप से शुष्क पर्णपाती वन है। यह एक अभयारण्य है जो विभिन्न प्रजातियों जैसे तेंदुए, स्लॉथ भालू और अनगिनत पक्षी प्रजातियों को आश्रय प्रदान करता है।

तमोर पिंगला (Tamor Pingla Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh) :

सरगुजा जिले में स्थित तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य अपनी प्राचीन प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। अभयारण्य कई प्रजातियों का घर है, जिनमें भारतीय भेड़िया, स्लॉथ भालू और जंगली बिल्ली शामिल हैं। प्रकृति की गोद में एकांत चाहने वालों के लिए यह एक आदर्श स्थान है।

सेमरसोत (Semarsot Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh) :

बिलासपुर जिले में स्थित, सेमरसोत वन्यजीव अभयारण्य अपनी हरी-भरी वनस्पतियों और शांत वातावरण के लिए जाना जाता है। अभयारण्य मगरमच्छ मगरमच्छ, भारतीय अजगर और कई पक्षी प्रजातियों के लिए एक सुरक्षित आवास प्रदान करता है।

Bhairamgarh Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh

Bhoramdev Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh

Sarangarh-Gomardha Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh

Pamed Wild Buffalo Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh

उदंती (Udanti Wild Buffalo Wildlife Sanctuary in Chhattisgarh) :

गरियाबंद जिले में स्थित उदंती वन्यजीव अभयारण्य, घने जंगलों और घुमावदार नदियों के मिश्रण के साथ एक मंत्रमुग्ध कर देने वाला परिदृश्य है। यह अभयारण्य घड़ियाल, चीतल और रंगीन भारतीय पित्त जैसी प्रजातियों की शरणस्थली है।

छत्तीसगढ़ के वन्यजीव अभयारण्य सिर्फ संरक्षित क्षेत्र नहीं हैं; वे राज्य की प्राकृतिक विरासत के संरक्षक हैं। ये अभयारण्य हमें संरक्षण के महत्व पर जोर देते हुए जंगल की अदम्य सुंदरता से जुड़ने की अनुमति देते हैं। हमारे ग्रह के जिम्मेदार प्रबंधकों के रूप में, यह सुनिश्चित करना हमारा कर्तव्य है कि ये अभयारण्य फलते-फूलते रहें।

छत्तीसगढ़ में वन्यजीव अभयारण्य क्षेत्र की अद्वितीय जैव विविधता को संरक्षित करते हुए महत्वपूर्ण संरक्षण केंद्र के रूप में कार्य करते हैं। वे पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखने और लुप्तप्राय प्रजातियों के अस्तित्व को सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या इन वन्यजीव अभयारण्यों में जाने पर कोई प्रतिबंध है?

हाँ, आगंतुकों को परमिट प्राप्त करना और वन्यजीवों को होने वाली परेशानी को कम करने के लिए विशिष्ट दिशानिर्देशों का पालन करना आवश्यक है।

छत्तीसगढ़ के वन्यजीव अभयारण्यों की यात्रा का सबसे अच्छा समय क्या है?

यात्रा के लिए आदर्श समय अक्टूबर से मार्च तक सर्दियों के महीनों के दौरान है, जब मौसम सुहावना होता है।

क्या ये अभयारण्य निर्देशित पर्यटन प्रदान करते हैं?

कई अभयारण्य जानकार प्रकृतिवादियों द्वारा संचालित निर्देशित पर्यटन प्रदान करते हैं।

क्या इन अभयारण्यों के पास आवास उपलब्ध हैं?

हाँ, इन अभयारण्यों के पास कई लॉज और रिसॉर्ट हैं जो पर्यटकों की सेवा करते हैं।

छत्तीसगढ़ में वन्यजीव संरक्षण का सबसे चुनौतीपूर्ण पहलू क्या है?

वन्यजीव आवासों में मानव बस्तियों का अतिक्रमण संरक्षण प्रयासों के लिए एक महत्वपूर्ण चुनौती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार