Rihand Dam

Rihand Dam : Govind Ballabh Pant Sagar Dam

5/5 - (1 vote)

Rihand Dam : रिहंद बांध, जिसे गोविंद बल्लभ पंत सागर बांध के नाम से भी जाना जाता है, भारत के सबसे बड़े जलाशयों में से एक और एक महत्वपूर्ण इंजीनियरिंग चमत्कार है। उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में रिहंद नदी पर स्थित यह बांध सिंचाई, बिजली उत्पादन और आसपास के क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह लेख रिहंद बांध के निर्माण, महत्व, पर्यावरणीय प्रभाव और विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डालता है।

रिहंद बांध का निर्माण
रिहंद बांध का निर्माण 1954 में शुरू हुआ और 1962 में पूरा हुआ। यह उत्तर प्रदेश सरकार और भारत सरकार के बीच एक संयुक्त उद्यम था। यह बांध 91.44 मीटर (300 फीट) की प्रभावशाली ऊंचाई पर स्थित है और रिहंद नदी तक फैला हुआ है, जिससे एक विशाल जलाशय बनता है जिसे गोविंद बल्लभ पंत सागर के नाम से जाना जाता है।

रिहंद बांध का महत्व
रिहंद बांध इस क्षेत्र और पूरे देश के लिए अत्यधिक महत्व रखता है। यह एक बहुउद्देश्यीय परियोजना के रूप में कार्य करती है, जो एक विशाल कृषि क्षेत्र को सिंचाई सुविधाएं प्रदान करती है और कई गांवों और कस्बों में पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करती है। इसके अतिरिक्त, बांध जलविद्युत ऊर्जा उत्पन्न करता है, जो देश की ऊर्जा आवश्यकताओं में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

जलाशय: गोविंद बल्लभ पंत सागर
रिहंद बांध द्वारा निर्मित जलाशय का नाम प्रसिद्ध भारतीय स्वतंत्रता सेनानी के सम्मान में गोविंद बल्लभ पंत सागर रखा गया है। यह लगभग 155 वर्ग किलोमीटर के विस्तृत क्षेत्र को कवर करता है और इसकी भंडारण क्षमता लगभग 10.6 बिलियन क्यूबिक मीटर पानी है। गोविंद बल्लभ पंत सागर न केवल आसपास के क्षेत्रों की पानी की जरूरतों को पूरा करता है, बल्कि विविध जलीय जीवन का भी समर्थन करता है और पर्यटकों के लिए एक सुरम्य परिदृश्य प्रदान करता है।

रिहंद बांध का पर्यावरणीय प्रभाव
जबकि रिहंद बांध ने कृषि को समर्थन देने और बिजली प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, इसका पर्यावरणीय प्रभाव भी पड़ा है। बांध के निर्माण के कारण कई गाँवों का विस्थापन हुआ और भूमि का विशाल भाग जलमग्न हो गया। नदी के प्राकृतिक प्रवाह में परिवर्तन ने क्षेत्र में पारिस्थितिकी तंत्र और जलीय जीवन को प्रभावित किया है। इन प्रभावों को कम करने और पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखने के प्रयास किए गए हैं।

सिंचाई एवं विद्युत उत्पादन
रिहंद बांध का एक प्राथमिक उद्देश्य सिंचाई है। गोविंद बल्लभ पंत सागर में संग्रहीत पानी का उपयोग सिंचाई परियोजनाओं के लिए किया जाता है, जिससे आसपास के क्षेत्रों में कृषि गतिविधियों को लाभ होता है। इसके अलावा, बांध के पनबिजली स्टेशन की क्षमता 300 मेगावाट है, जो क्षेत्र के लिए स्वच्छ और नवीकरणीय ऊर्जा पैदा करता है।

पर्यटन और मनोरंजन
अपने कार्यात्मक पहलुओं के अलावा, रिहंद बांध पिछले कुछ वर्षों में एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल बन गया है। गोविंद बल्लभ पंत सागर की प्राकृतिक सुंदरता प्रकृति प्रेमियों, फोटोग्राफरों और साहसिक चाहने वालों को आकर्षित करती है। पर्यटक नौकायन, मछली पकड़ने और पक्षी देखने जैसी गतिविधियों में शामिल हो सकते हैं, जो बांध के मनोरंजक मूल्य को बढ़ाते हैं।

चुनौतियाँ और भविष्य की संभावनाएँ
रिहंद बांध को अवसादन और गाद जैसी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, जिससे समय के साथ इसकी भंडारण क्षमता कम हो जाती है। इसकी प्रभावशीलता सुनिश्चित करने के लिए जलाशय का रखरखाव और नियमित ड्रेजिंग महत्वपूर्ण हो जाती है। इसके अतिरिक्त, पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने और बांध के प्रदर्शन को बढ़ाने के लिए स्थायी तरीकों की खोज करना भविष्य के विकास के लिए फोकस का क्षेत्र है।

निष्कर्ष
रिहंद बांध, जिसे गोविंद बल्लभ पंत सागर बांध के नाम से भी जाना जाता है, भारत की इंजीनियरिंग कौशल और सिंचाई और बिजली उत्पादन में योगदान का प्रतीक है। अपने विशाल जलाशय के साथ, बांध ने क्षेत्र के कृषि परिदृश्य को बदल दिया है और अनगिनत घरों को बिजली प्रदान की है। हालाँकि, पारिस्थितिक संतुलन को बनाए रखने और बांध द्वारा प्रदान किए गए लाभों को बनाए रखने के लिए पर्यावरण संरक्षण के साथ विकास को संतुलित करना आवश्यक है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों
क्या रिहंद बांध गोविंद बल्लभ पंत सागर बांध के समान है?

जी हां, रिहंद बांध को गोविंद बल्लभ पंत सागर बांध के नाम से भी जाना जाता है।
रिहंद बांध की ऊंचाई कितनी है?

रिहंद बांध 91.44 मीटर (300 फीट) की ऊंचाई पर है।
गोविंद बल्लभ पंत सागर की क्षमता कितनी है?

गोविंद बल्लभ पंत सागर की भंडारण क्षमता लगभग 10.6 बिलियन क्यूबिक मीटर पानी है।
रिहंद बांध के प्राथमिक उद्देश्य क्या हैं?

रिहंद बांध का प्राथमिक उद्देश्य सिंचाई और बिजली उत्पादन है।
क्या पर्यटक रिहंद बांध जा सकते हैं?

हां, रिहंद बांध पर्यटकों के लिए खुला है, जो नौकायन, मछली पकड़ने और पक्षी देखने जैसी मनोरंजक गतिविधियों की पेशकश करता है।

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार