Palamau Jharkhand

Palamau Tiger Reserve Jharkhand

5/5 - (1 vote)

Palamau Tiger Reserve Jharkhand : भारत के झारखंड के मध्य में स्थित पलामू टाइगर रिजर्व की मनोरम दुनिया में आपका स्वागत है। बिहार के दक्षिणी भाग और झारखंड के उत्तर-पश्चिमी भाग में स्थित, पलामू टाइगर रिजर्व भारत के सबसे पुराने और सबसे क़ीमती वन्यजीव अभयारण्यों में से एक है। लगभग 1,014 वर्ग किलोमीटर के विशाल क्षेत्र को कवर करने वाला यह अभ्यारण्य प्रकृति प्रेमियों और वन्यजीव प्रेमियों के लिए स्वर्ग है।

पलामू टाइगर रिजर्व एक समृद्ध ऐतिहासिक अतीत समेटे हुए है। शुरुआत में इसे 1974 में एक वन्यजीव अभयारण्य घोषित किया गया था और बाद में 1998 में इसे बाघ अभयारण्य का दर्जा दिया गया। इस अभयारण्य का नाम पलामू किले से लिया गया है, जिसे 16 वीं शताब्दी के अंत में राजा मेदिनी रे के शासनकाल के दौरान बनाया गया था। यह रिज़र्व पर्णपाती जंगलों, हरे-भरे घास के मैदानों और घुमावदार नदियों का एक उल्लेखनीय मिश्रण है। साल, बांस और सागौन के पेड़ परिदृश्य पर हावी हैं, जिससे एक मंत्रमुग्ध कर देने वाली हरी छतरी बनती है जो जहाँ तक नज़र जाती है वहाँ तक फैली हुई है।

पलामू टाइगर रिजर्व बंगाल राजसी बाघों की बढ़ती आबादी के लिए प्रसिद्ध है। लगभग 40 बाघों के इस रिजर्व को अपना घर कहने के कारण, यह इस लुप्तप्राय प्रजाति के संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बाघों के अलावा, यह रिज़र्व विभिन्न प्रकार के वन्यजीवों का निवास स्थान है, जिनमें तेंदुए, हाथी, सुस्त भालू और जंगली कुत्ते शामिल हैं। पक्षी प्रेमी 170 से अधिक प्रजातियों के पक्षी आश्चर्यों को देखकर भी आनंदित हो सकते हैं।

वास्तव में रिज़र्व की प्राकृतिक सुंदरता और वन्य जीवन में डूबने के लिए, एक रोमांचक सफारी पर निकल पड़ें। जीप सफ़ारी और हाथी सफ़ारी लोकप्रिय विकल्प हैं, जो जंगल के निवासियों के साथ घनिष्ठ मुठभेड़ की पेशकश करते हैं। अभ्यारण्य के भीतर स्थित सुरम्य बेतला राष्ट्रीय उद्यान, आश्चर्यजनक परिदृश्य, शांत झीलें और झरने वाले झरनों का दावा करता है। यह एक शांत छुट्टी के लिए एक आदर्श स्थान है।

पलामू टाइगर रिजर्व न केवल वन्यजीवों के लिए एक अभयारण्य है बल्कि संरक्षण प्रयासों का केंद्र भी है। समर्पित कर्मचारी और अधिकारी नाजुक पारिस्थितिकी तंत्र की रक्षा करने और लुप्तप्राय प्रजातियों के अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए अथक प्रयास करते हैं।

झारखंड में पलामू टाइगर रिजर्व प्रकृति का एक सच्चा चमत्कार है। इसके हरे-भरे जंगल, विविध वन्य जीवन और समृद्ध इतिहास इसे जंगल के साथ एक यादगार मुठभेड़ की तलाश करने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए अवश्य जाने वाला स्थान बनाते हैं। इस अभयारण्य में जाकर आप न केवल प्रकृति की सुंदरता का अनुभव करते हैं बल्कि इसके संरक्षण में भी योगदान देते हैं।

पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या पलामू टाइगर रिजर्व साल भर जनता के लिए खुला रहता है?

हां, रिज़र्व पूरे वर्ष आगंतुकों के लिए खुला रहता है, लेकिन मौसम और पहुंच में मौसमी बदलावों की जांच करना उचित है।

क्या रिज़र्व के भीतर आवास उपलब्ध हैं?

हां, पर्यटकों के लिए कई वन विश्राम गृह और पर्यावरण-पर्यटन आवास उपलब्ध हैं।

क्या मैं पहले से सफ़ारी बुक कर सकता हूँ?

अपने स्थान को सुरक्षित करने के लिए अपनी सफारी को पहले से बुक करने की सिफारिश की जाती है, खासकर चरम पर्यटन सीजन के दौरान।

वन्यजीवों को देखने के लिए पलामू टाइगर रिजर्व जाने का सबसे अच्छा समय क्या है?

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय नवंबर से फरवरी तक सर्दियों के महीनों के दौरान होता है, जब ठंडे तापमान के कारण वन्यजीव अधिक सक्रिय होते हैं।

क्या रिज़र्व के भीतर ट्रैकिंग के कोई अवसर हैं?

हाँ, निर्देशित ट्रैकिंग उन लोगों के लिए उपलब्ध है जो पैदल रिजर्व का पता लगाना चाहते हैं और प्रकृति के करीब जाना चाहते हैं।

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार