Bhagalpur : आइए जानें कि भागलपुर में कौन से प्रमुख दर्शनीय स्थल हैं

5/5 - (1 vote)

Bhagalpur : भागलपुर बिहार का तीसरा सबसे बड़ा और खूबसूरत शहर है, जो गंगा नदी के दक्षिणी तट पर स्थित है। यह अपनी रेशम साड़ियों, मधुबनी पेंटिंग और ऐतिहासिक स्थलों के लिए प्रसिद्ध है। भागलपुर में घूमने के लिए कई खूबसूरत जगहें हैं।

​Bhagalpur : भागलपुर में घूमने लायक कई जगहें हैं, जिनमें शामिल हैं:

यदि आप वहां जाने या यात्रा की योजना बनाने पर विचार कर रहे हैं, तो आज का लेख आपके लिए महत्वपूर्ण है। इस ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से, हम आपको भागलपुर के प्रमुख पर्यटक आकर्षणों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करेंगे ताकि आप आसानी से शहर का भ्रमण कर सकें।

विक्रमशिला महाविहार (प्राचीन विक्रमशिला विश्वविद्यालय)

भागलपुर का सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थल विक्रमशिला महाविहार है। यह महाविहार 5वीं से 12वीं शताब्दी तक बौद्ध धर्म का प्रमुख केंद्र था। यहां हजारों बौद्ध भिक्षुओं ने शिक्षा प्राप्त की। विक्रमशिला महाविहार के खंडहर आज भी इसकी भव्यता और ऐतिहासिक महत्व की गवाही देते हैं। इन खंडहरों में सबसे महत्वपूर्ण मंदिर धर्मराज विहार है, जिसके गर्भगृह में एक विशाल शिव लिंग है। विक्रमशिला महाविहार के खंडहर बौद्ध धर्म के इतिहास और संस्कृति की जानकारी प्रदान करते हैं।

मंदार पर्वत (मंदार हिल्स)

मंदार पर्वत भागलपुर के पास स्थित एक प्राचीन पहाड़ी है। यह 700 फीट ऊंचा है और अविश्वसनीय प्राकृतिक सुंदरता का दावा करता है। मंदार पर्वत के आसपास के क्षेत्र में कई मंदिर और अन्य ऐतिहासिक स्थल भी हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, मंदार पर्वत का उपयोग समुद्र मंथन के दौरान किया गया था, जिससे जीवन का अमृत निकला, जिसे ‘अमृत’ के नाम से जाना जाता है, जिसे देवताओं और राक्षसों के बीच वितरित किया गया था। मंदार पर्वत पर भगवान विष्णु के पैरों के निशान भी हैं।

अजगैबीनाथ मंदिर

अजगैबीनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक प्राचीन मंदिर है, जो भागलपुर के पास स्थित है। यह अपनी शानदार वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है। यह मंदिर 12वीं शताब्दी का है और इसका निर्माण राजा अजगैब ने करवाया था। लाल पत्थर से निर्मित इस मंदिर के गर्भगृह में भगवान शिव की एक बड़ी मूर्ति है। अजगैबीनाथ मंदिर की वास्तुकला उल्लेखनीय है, इसकी बाहरी दीवारों और शिलालेखों पर देवी-देवताओं की कई मूर्तियां सुशोभित हैं।

बटेश्वर स्थान

बटेश्वर स्थान भागलपुर के निकट स्थित एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थल है। यह प्राचीन गुफाओं और मंदिरों का घर है। बटेश्वर स्थान जैन धर्म का एक महत्वपूर्ण केंद्र है, जो 6वीं शताब्दी में स्थापित किया गया था। इसका निर्माण जैन तीर्थंकर भगवान शांतिनाथ के संरक्षण में किया गया था। इस स्थल पर जैन तीर्थंकरों की मूर्तियां और शिलालेखों वाली कई गुफाएं हैं।

कर्णगढ़

कर्णगढ़ एक ऐतिहासिक किला है जो भागलपुर शहर के मध्य में स्थित है। इसका निर्माण 17वीं शताब्दी में मुगल बादशाह औरंगजेब ने करवाया था। कर्णगढ़ मजबूत दीवारों और बुर्जों वाला एक शानदार किला है। कर्णगढ़ का निर्माण भागलपुर के नवाब मुहम्मद अली खान के अनुरोध पर शुरू किया गया था। किले का नाम महाकाव्य महाभारत के पात्र कर्ण के नाम पर रखा गया है, जिनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने इस स्थान पर ध्यान किया था।

कहलगांव तीन पहाड़

कहलगांव थ्री हिल्स एक प्राकृतिक स्थल है जो भागलपुर से लगभग 20 किलोमीटर दूर स्थित है। ये तीन पहाड़ियाँ अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध हैं। पहाड़ियों के आसपास का क्षेत्र जंगलों से घना है, जो विभिन्न वन्यजीव प्रजातियों का घर है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, कहलगांव थ्री हिल्स भगवान शिव के अनुयायियों का निवास स्थान था, जो यहां ध्यान करते थे।

शाहकुंड पहाड़

शाहकुंड पहाड़ी भागलपुर से लगभग 30 किलोमीटर दूर स्थित एक प्राकृतिक स्थल है। यह पहाड़ी अपनी प्राकृतिक सुंदरता और पौराणिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है। किंवदंतियों के अनुसार, शाहकुंड पहाड़ी भगवान शिव का निवास स्थान है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान शिव ने इसी पहाड़ी पर तपस्या की थी। शाहकुंड पहाड़ी एक खूबसूरत प्राकृतिक स्थल है जहां पर्यटक प्राकृतिक सुंदरता और पौराणिक महत्व दोनों का आनंद ले सकते हैं।

जगतपुर झील

जगतपुर झील भागलपुर शहर के पास स्थित एक प्राकृतिक स्थल है। यह झील अपनी प्राकृतिक सुंदरता और पक्षी अभयारण्य के लिए प्रसिद्ध है। जगतपुर झील भागलपुर के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। यह साल भर पर्यटकों और पक्षी प्रेमियों को आकर्षित करता है। जगतपुर झील एक महत्वपूर्ण पक्षी अभयारण्य के रूप में भी कार्य करती है, जो विभिन्न दुर्लभ और प्रवासी पक्षी प्रजातियों को आकर्षित करती है। सर्दियों के दौरान इस झील में बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी आते हैं।

महाशय ड्योढ़ी दुर्गा मंदिर

महाशय दोधी दुर्गा मंदिर भागलपुर शहर के मध्य में स्थित एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर दुर्गा पूजा के लिए प्रसिद्ध है। महाशय दोधी दुर्गा मंदिर की स्थापना 18वीं शताब्दी में हुई थी। इसका निर्माण महाशय नामक व्यापारी ने करवाया था। मंदिर का निर्माण लाल पत्थर से किया गया है और इसके गर्भगृह में देवी दुर्गा की एक मूर्ति है। महाशय दोधी दुर्गा मंदिर एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है। दुर्गा पूजा के दौरान, लाखों भक्त देवी दुर्गा का आशीर्वाद लेने के लिए इस मंदिर में आते हैं।

चंपानगर विषहरी मंदिर

भागलपुर जिले के चंपानगर शहर में स्थित, चंपानगर विषहरी मंदिर एक प्राचीन मंदिर है जो भगवान शिव की पत्नी देवी विषहरी को समर्पित है। 7वीं शताब्दी में स्थापित इस मंदिर का निर्माण पाल वंश के राजा देवपाल ने करवाया था। काले पत्थर से निर्मित इस मंदिर के गर्भगृह में देवी विषहरी की मूर्ति है। चंपानगर विषहरी मंदिर महत्वपूर्ण धार्मिक महत्व रखता है, जो विनाश की देवी के साथ अपने संबंध के लिए प्रसिद्ध है। दूर-दूर से भक्त यहां देवी विषहरी से आशीर्वाद लेने आते हैं।

भागलपुर संग्रहालय

भागलपुर संग्रहालय बिहार के भागलपुर में स्थित एक ऐतिहासिक संग्रहालय है। 11 नवंबर 1976 को स्थापित, यह प्राचीन से लेकर आधुनिक काल तक की विभिन्न कलाकृतियों और पुरातात्विक अवशेषों को प्रदर्शित करता है। भागलपुर के सबसे लोकप्रिय पर्यटक आकर्षणों में से एक, संग्रहालय इतिहास, कला और संस्कृति में रुचि रखने वालों के लिए एक उत्कृष्ट गंतव्य के रूप में कार्य करता है।

पी.के. दास ड्रिफ्टवुड संग्रहालय और पार्क

पी.के. दास ड्रिफ्टवुड संग्रहालय और पार्क बिहार के भागलपुर में एक अद्वितीय और मनोरम पर्यटन स्थल है। ड्रिफ्टवुड से बनी अपनी मूर्तियों और अन्य कलाकृतियों के लिए प्रसिद्ध, संग्रहालय और पार्क की स्थापना 1980 में पी.के. द्वारा की गई थी। दास, एक प्रसिद्ध कलाकार हैं जो ड्रिफ्टवुड से अपनी रचनाओं के लिए जाने जाते हैं।

भागलपुर में कुछ अन्य पर्यटक आकर्षण हैं:

करनैलगंज रॉक कट मंदिर
महर्षि मेंहीं आश्रम
रवीन्द्र भवन

चंपापुर दिगंबर जैन सिद्ध क्षेत्र
वेंकटेश्वर मंदिर
पंचमुखी (पांच मुख वाला) हनुमान मंदिर
राजमहल जीवाश्म अभयारण्य
श्वेतांबर जैन मंदिर
पीथमपुर जैन मंदिर
भागलपुर रेशम उद्योग और कृषि विश्वविद्यालयों से संबंधित संस्थानों का भी घर है। यह अपनी टसर सिल्क और भागलपुरी साड़ियों के लिए पूरे भारत में प्रसिद्ध है।

हमने आज के महत्वपूर्ण लेख में भागलपुर के पर्यटक आकर्षणों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की है। यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे अपने दोस्तों और अपने सभी सोशल मीडिया हैंडल पर साझा करना न भूलें।

FAQ (भागलपुर भ्रमण के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न):

भागलपुर जाने का सबसे अच्छा समय कब है?

भागलपुर जाने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर और मार्च के बीच है जब मौसम सुहावना होता है और वर्षा न्यूनतम होती है।

भागलपुर कैसे पहुँचें?

भागलपुर हवाई, रेल और सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

भागलपुर में कहाँ ठहरें?

भागलपुर में विभिन्न बजटों के लिए कई होटल और गेस्टहाउस हैं।

भागलपुर में भोजन के विकल्प क्या हैं?

भागलपुर में बिहारी, उत्तर भारतीय और दक्षिण भारतीय व्यंजनों सहित विभिन्न प्रकार के व्यंजन उपलब्ध हैं।

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Andaman Honeymoon Trip : अंडमान-निकोबार द्वीप के समुद्री तट Andaman Islands : घूमने का खास आनंद ले Andaman Vs Maldives : मालदीव से कितना सुंदर है अंडमान-निकोबार Andaman & Nicobar Travel Guide : पानी की लहरों का मजेदार सफ़र Andaman and Nicobar Islands Trip : मालदीव से भी ज्यादा खूबसूरत है अंडमान-निकोबार